अंतरराष्ट्रीय नाइजीरियन गैंग ने फर्जी सिम से उड़ाए थे 42 लाख

सायबर पुलिस ने मंडीदीप की एक फर्म का अकाउंट हैक कर 42 लाख रुपए उड़ाने के मामले को सुलझा लिया है। इसमें इंटरनेशनल स्तर पर सक्रिय नाइजीरियन गैंग के तीन सदस्यों सहित छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। घटना 16 सितंबर को हुई थी।

वारदात के लिए ठगों ने नेट बैंकिंग के लिए रजिस्टर्ड सिम को ब्लॉक कराकर फर्जी आईडी लगाकर दूसरी सिम एक्टिवेट कराई थी। इस शातिर गैंग को पकड़ने में बीएसएनएल दफ्तर में लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज की भूमिका अहम रही।

एसपी साइबर क्राइम शैलेंद्र चौहान ने बताया कि आनंद जैन की मंडीदीप में प्रोम्ट इंजीनियर्स के नाम से फर्म है। फर्म का खाता बैंक ऑफ बड़ौदा में है। उन्होंने शिकायत दर्ज कराई थी,कि 16 सितंबर को उनकी फर्म का खाता हैक कर 42 लाख रुपए आरजीटीएस के माध्यम से निकाल लिए हैं।

एक दिन पहले बंद हो गई सिम

जैन ने बताया कि उनका मोबाइल नंबर,जो नेट बैंकिंग में रजिस्टर्ड है,वह 15 नवंबर की शाम 6 बजे अचानक बंद हो गया। कुछ देर बाद उनके मोबाइल फोन की स्क्रीन पर नो सर्विस डिस्प्ले होने लगा। कारण जानने के लिए उन्होंने बीएसएनएल के टोल फ्री नंबर 1503 पर संपर्क कर कारण जानना चाहा।

संबंधित अधिकारी ने बताया कि आपको दूसरी सिम जारी की गई है, इसलिए पहली वाली सिम बंद कर दी गई है। अगले दिन वस्तुस्थिति पता करने वह न्यूमार्केट स्थित बीएसएनएल के दफ्तर पहुंचे। वहां पता चला कि किसी ने उनके वोटर आईडी प्रूफ पर अपनी फोटो चस्पा करके नई सिम जारी करवा ली है।

फुटेज से मिला क्लू

एसपी चौहान ने बताया कि पुलिस ने बीएसएनल दफ्तर के कैमरों के फुटेज के आधार पर डीआरएम ऑफिस के पास शक्ति नगर निवासी अनिल पांडे को हिरासत में ले लिया। पूछताछ में उसने बताया कि उसे इसके लिए शिवेंद्र सिकरवार नाम के व्यक्ति ने 35 हजार रुपए दिए थे। पुलिस ने शिवेंद्र और उसके साथी रामसिंह उर्फ राजवीर को भी गिरफ्तार कर लिया।

पूछताछ में पता चला कि फर्जी सिम को एक्टिवेट करने के लिए राजेंद्र सतनामी नाम का व्यक्ति अपने साथ जान ब्राउनी नाम के व्यक्ति को जबलपुर से लेकर आया था। उसने ही अपनी फोटो फर्जी आईडी पर चस्पा की थी। राजेंद्र और ब्राउनी अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर हैं। खाते से रकम उड़ाने में अहम भूमिका नोएडा में बैठे नाइजीरिया मूल के इबेजिम पीटर, डेविड ओलूटायो और एवरेस्ट चिनाडू ने निभाई थी। उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया गया है।