अफसर ने सबके सामने डांटा तो नर्स ने काट ली अपने हाथ की नस

सिरोंज/भोपाल.शासकीय अस्पताल में बुधवार सुबह एक नर्स ने बीएमओ के व्यवहार एवं डांट से परेशान होकर अपनी कलाई की नस काट ली। मौके पर मौजूद अस्पताल के कर्मचारियों ने नर्स की मरहम-पट्टी कर उसे समझाया। क्या था मामला…
-राजीव गांधी स्मृति चिकित्सालय में पदस्थ नर्स प्रियंका अंसोफिया अपने पति देवेन्द्र के साथ सिरोंज थाने पहुंची।
-यहां पर उन्होंने थाना प्रभारी दिनेश प्रजापति को शिकायत करते हुए बताया कि अस्पताल की बीएमओ डाॅ. विजयलक्ष्मी नागवंशी द्वारा उन्हें बेवजह प्रताड़ित किया जा रहा है।

बीएमओ बोली- मैंने नियमानुसार काम काम करने को कहा था
-दोपहर में इसी घटना के संबंध में बीएमओ डाॅ. विजयलक्ष्मी नागवंशी ने भी एक आवेदन सिरोंज थाने में दिया है।
-बीएमओ ने आवेदन में बताया कि उन्होंने अस्पताल में पदस्थ नर्स प्रियंका को नियमानुसार कार्य करने को कहा तो उसने अपने हाथ की नस काट ली।
-थाना प्रभारी प्रजापति ने बताया कि विभागीय मामला होने की वजह से दोनों पक्षों को समझाइश दी गई है।
-घटना के संबंध में भास्कर से हुई चर्चा में बीएमओ डाॅ. नागवंशी ने बताया कि ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर होने के नाते बुधवार को मैंने प्रियंका को बुलाकर अपना काम सही तरीके से करने की समझाइश दी थी। मैंने प्रियंका से किसी प्रकार का अभद्र व्यवहार नहीं किया।
-हमारी चर्चा के दौरान अस्पताल के अन्य कर्मचारी भी मौजूद थे। इसके बाद प्रियंका ने अस्पताल में अपने हाथ की नस काटने की कोशिश की।
-इस संबंध में मैंने सीएमएचओ को भी अवगत करा दिया है।
प्रियंका ने कहा बे वजह डांटती हैं बीएमओ
-बीएमओ मनमानी से ड्यूटी लगाकर अभद्र व्यवहार करती हैं।
-बुधवार को भी बीएमओ ने मुझे बुलाकर स्टाफ के अन्य लोगों के सामने अभद्र व्यवहार किया। परेशान हालत में मैंने अपने हाथ की नस काट ली।
-अस्पताल में पदस्थ अन्य कर्मचारियों ने मुझे संभाला।
-प्रियंका के साथ मौजूद उसके पति देवेन्द्र का कहना था कि स्टाफ के सदस्यों ने मुझे घटना की जानकारी दी।
-नर्स प्रियंका बीएमओ के अभद्र व्यवहार की शिकायत मुझसे करती रहती है लेकिन हालात ऐसे बन जाएंगे इस तरह की उम्मीद नहीं थी।
-प्रियंका ने थाना प्रभारी से बीएमओ के विरुद्ध प्रताड़ना का प्रकरण दर्ज करने की बात कही है।
-थाना प्रभारी प्रजापति ने प्रियंका को समझाइश देकर मामले की शिकायत विभागीय स्तर पर करने की सलाह दी।
नर्स का बयान
-नर्स प्रिंयका अंसोफिया ने बताया कि मुझे बीएमओ डाॅ. विजयलक्ष्मी नागलक्ष्मी द्वारा हर समय प्रताड़ित तथा सभी के सामने जलील किया जाता है।
-मेरी ड्यूटी 100 बिस्तर वाले अस्पताल में होने के बावजूद जानबूझकर मुझे प्राथमिक अस्पताल में भेजा जाता है।
-अत्यधिक तंग आने के बाद बुधवार सुबह 11 बजे मैंने अपने हाथ की नस काट ली थी।

बयान लेने आज जाएगा जांच दल
-मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बीएल आर्य ने कहा कि मुझे बीएमओ डाॅ. राजलक्ष्मी ने फोन पर घटना के बारे में बताया है।
-गुरुवार को एक जांच दल सिरोंज भेजा जा रहा है। जो दोनों पक्षों के बयान लेगा।
-जो स्थिति सामने आएगी उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply