अब भोपाल एक्सप्रेस में ग्रीन टी, सूप और लाइब्रेरी की सुविधा भी

भोपाल . हबीबगंज से हजरत निजामुद्दीन के बीच चलने वाली भोपाल एक्सप्रेस अब वाकई में शान-ए-भोपाल एक्सप्रेस होने जा रही है। इसमें अब यात्रियों को वाटर वेंडिंग मशीन से लेकर आम चाय-कॉफी के साथ ग्रीन-टी व सूप भी मिल सकेगा। इतना ही नहीं डेली मैग्जीन्स पढ़ने के लिए लाइब्रेरी भी बना दी गई है। यात्रियों को संदेश देने के लिए पब्लिक एड्रेसिंग सिस्टम भी लगाया गया है। एसी-1 में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए रंगीन चित्रकारी के अलावा प्रदेश के पर्यटन केंद्रों की जानकारी देने वाली वॉल पेंटिंग तक की गई हैं। एक नवंबर से नियमित रूप से यह सुविधाएं यात्रियों को मिल सकेंगी।
फीडबैक के बाद लिया निर्णय
इसी साल की शुरुआत में मनाए गए यात्री फीडबैक पखवाड़े के तहत 3 हजार में से 2100 से अधिक यात्रियों ने भोपाल एक्सप्रेस में वाटर वेंडिंग मशीन, चाय-कॉफी मेकिंग मशीन सहित लाइब्रेरी और अच्छे इंटीरियर की मांग की थी।
ऐसे लगी हैं मशीनें: स्लीपर श्रेणी के एस-3 नंबर के कोच में चाय-कॉफी और सूप के लिए वेंडिंग मशीन लगाई गई है। रेलवे के कामर्शियल विभाग द्वारा तय किए गए रेट पर एक्सप्रेसो कंपनी द्वारा यात्रियों को चाय-कॉफी व ग्रीन-टी आदि उपलब्ध करवाई जा रही है।
रेल मंडल की लाइब्रेरी से आ रही पुस्तकें
एसी-3 श्रेणी के बी-1 कोच में यात्रियों के लिए लाइब्रेरी बनाई गई है। इसमें डेली मैग्जीन के अलावा कुछ नॉलेज बुक्स को भी रखा गया है। फिलहाल यात्रियों को यह बुक्स नि:शुल्क उपलब्ध करवाई जा रही हैं। सीनियर डीसीएम विनोद तमोरी के अनुसार लाइब्रेरी पर कुछ अतिरिक्त खर्च नहीं किया गया है। फिलहाल रेल मंडल की लाइब्रेरी से ही मैग्जीन पहुंचाकर संचालन किया जा रहा है।
इंटीरियर में परिवर्तन, स्वच्छता का संदेश भी
एसी-1 श्रेणी के कोच के इंटीरियर में खासा परिवर्तन कर दिया गया है। इंटीरियर से सुखद अहसास हो, इसके लिए रंगीन फ्लावर पॉट्स, चित्रकारी आदि कर दी गई है। साथ ही प्रदेश के पर्यटन स्थलों की जानकारी देने कान्हा, बांधवगढ जैसे स्थानों की जानकारी देने वाले ब्रोशर लगाए गए हैं। ट्रेन के विभिन्न श्रेणी के कोच में लगाया गया पब्लिक एड्रेसिंग सिस्टम द्वारा यात्रियों को ट्रेन में साफ-सफाई रखने का संदेश मुख्य रूप से दिया जा रहा है।