अमित शाह ने आदिवासी के घर खाया खाना, दाल बाटी का लिया लुत्‍फ

भोपाल : भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने अपने भोपाल दौरे के अंतिम दिन राजधानी से लगे एक गांव में आदिवासी के घर भोजन किया. रविवार को अमित शाह भोपाल के रातीबढ़ के पास सेवनियां गौड़ गांव में आदिवासी कमल सिंह के घर पहुंचे. यहां उन्‍होंने दोपहर का भोजन किया. उनके साथ इस मौके पर मप्र के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मप्र भाजपा के अध्‍यक्ष नंदकुमार चौहान भी मौजूद थे. अमित शाह के आगमन को लेकर कमल के घर पूरी तैयारियां की गई थीं. राजधानी के करीब स्थित सेवनियां गौड़ गांव में रहने वाला कमल सिंह मजदूरी कर अपने परिवार का भरण-पोषण करता है. लेकिन रविवार को वह काफी खुश था, क्‍योंकि सत्‍ताधारी पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष उसके घर खाने पर आए. इसके लिए उसने खास व्‍यंजन बनवाए.

खास व्‍यंजन तैयार किए
कमल सिंह उइके और उनकी पत्नी ने अमित शाह की पंसद का ध्यान रखते हुए उनके लिए खास तौर पर कड़ी, दाल, बाटी, चावल और बैगन का भरता बनाया। इसके अलावा आदिवासियों में बनने वाले विशेष पकवान शीरा भी बनाया गया था

भाई कमल और उनकी पत्नी द्वारा अपार स्नेह से परोसे गये दाल, बाटी और कढ़ी, चावल का स्वाद सदैव याद रहेगा। माँ अन्नपूर्णा की सब पर कृपा बनी रहे।
की गई जबर्दस्‍त साफ-सफाई
अमित शाह के भोजन कार्यक्रम के मद्देनजर बस्ती में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी. शाह मेधावी छात्र सम्मेलन के बाद आदिवासी के घर पहुंचे थे. पार्टी के कई आला नेता इस दौरान उनके साथ मौजूद थे. शाह के दौरे के मद्देनजर रातीबड़ थाना क्षेत्र के सेवनिया गोंड गांव में बाकायदा साफ-सफाई की गई. इतना ही नहीं शाह के पहुंचने से पहले ही यहां भारी पुलिस बल और मीडिया कर्मियों का जमावड़ा देखा गया.

यह भी पढ़ें : राज्यसभा में सरकार की किरकिरी, नाराज अमित शाह ने सांसदों की ली क्लास

देश के प्रति दुनिया का नजरिया बदला है
अमित शाह यहां तीन दिवसीय दौरे पर आए थे. यहां उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कहा कि मोदी सरकार ने तीन साल में देश के प्रति न केवल दुनिया का नजरिया बदला है, बल्कि आम आदमी की जिंदगी में भी बदलाव लाया है. यही कारण है कि जब भी राजनीतिक इतिहास लिखा जाएगा तो मोदी सरकार के तीन साल स्वर्ण अक्षरों में अंकित होंगे. उन्होंने कहा, “मोदी सरकार ने तीन वर्षो के कार्यकाल में गरीब महिलाओं, गरीबों, किसानो, जवानों के हित में महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं, पाकिस्तान पर सर्जिकल स्टाइक करके अपनी ताकत का एहसास कराया. देश की विकास दर तेजी से बढ़ रही है.” वहीं पिछले दिनों पार्टी की बैठक में आगामी लोकसभा चुनाव के लिए 350 सीटों का लक्ष्य तय किए जाने की खबरों को नकारते हुए शाह ने कहा, “हमने मिशन 350 शुरू नहीं किया है, हम इससे आगे भी जाएंगे. हां हर सीट पर संगठन मजबूत करने का लक्ष्य जरूर तय किया है.”