अमेरिका तक फैला है इस शख्स का कारोबार, यूं सब कुछ छोड़ ले रहे संन्यास

रायपुर। जिसे फैमिली मेंबर्स लोकेश कहकर बुलाते थे वो अब जैन मुनि बनने वाला। आने वाले दिनों में उसकी पहचान पिता के नाम से नहीं बल्कि जैन संत के नाम से होगी। जगदलपुर के रहने वाले लोकेश गोलछा की ग्राफिक डिजाइनिंग कंपनी है जिसका अमेरिका की फीवर डॉट कॉम कंपनी से टाईअप था। अब वे कंपनी और परिवार को छोड़कर दीक्षा ले रहे हैं। स्कूल टाइम में मां-बाप को खो दिया था…
– लोकेश के स्कूली पढ़ाई के दौरान ही माता-पिता का निधन हो गया। इसके बाद चाचा-चाची के लाड़ प्यार से वे आगे बढ़े। नेशनल स्कूल एवं निर्मल विद्यालय से 12 की पढ़ाई पूरी कर आईटी और ग्राफिक्स में रूचि रखने वाले होनहार लोकेश ने विशाखापटनम से विजुअल ग्राफिक्स में डिप्लोमा किया।
– तीन भाई एवं एक बहन में सबसे छोटे लोकेश गोलछा 6 साल पहले ही जैन मुनि पीयूष सागर सूरीश्वर जी मसा से प्रभावित होकर वैराग्यकाल में चले गए। 2 सितंबर 2017 को परिवार के छोटे बच्चे से लेकर बड़े सदस्यों ने दिल पर पत्थर रखकर लोकेश को पूर्ण साधक बनने के लिए
लोगों की आंखों में आंसू थे और लोकेश ने मुस्कुराते हुए कहा अलविदा
– लोकेश के निवास में रविवार दोपहर का वातावरण उस समय गमगीन हो गया जब वह परिवार के सभी सदस्यों से विदा ले रहे थे। लोकेश 15 नवंबर को गुरूदेव खरतरगच्छाचार्य श्रीजिन पीयूष सागर सूरीश्वरजी से दीक्षा श्री लब्धिनिधान पार्श्वनाथ मणिधारी तीर्थ ढ़ोक चौहटन जिला बाड़मेर राजस्थान में ग्रहण करेंगे। जिसका पांच दिनों तक आयोजन 10 नवंबर से किया जाएगा। जिसमें शामिल होने जगदलपुर से परिवार सहित करीब सौ से अधिक श्रद्धालु रवाना होंगे।