आज लखनऊ में यूपी के कई मुद्दों मंथन करेंगे अमित शाह, योगी कैबिनेट के विस्तार पर लग सकती है मुहर

लखनऊ.दलितों के मुद्दे पर नाराज बीजेपी सांसद, सहयोगियों की नाराजगी के साथ संगठग और सरकार के बीच अनबन के मुद्दे पर आज अमित शाह लखनऊ में मंथन करेंगे। बुधवार को वह पांच घंटे लखनऊ में सरकार-संगठन और सहयोगी दलों के साथ बैठक करेंगे। भविष्य के संगठनात्मक अभियानों खासकर दलितों में पैठ बनाने की कवायद, समरसता कार्यक्रमों और बूथ प्रबंधन जैसे विषयों पर भी अमित शाह टीम के साथ बात करेंगे। वहीं, प्रस्तावित विधान परिषद चुनाव के लिए चेहरों के औपचारिक चयन की भी दिशा तय हो सकती है।

इन मुद्दों पर मंथन करेंगे शाह

मंत्रिमंडल विस्तार पर होगी चर्चा
-अमित शाह आज सबसे पहले मुख्यमंत्री आवास में सीएम योगी और कुछ मंत्रियों से मुलाकात कर मीटिंग करेंगे। करीबी दो घंटे तक चलने वाली बैठक के बीच मंत्रियों के कार्यों की समीक्षा समेत मंत्रिमंडल के विस्तार पर चर्चा होगी। इसके साथ ही दलितों की सुरक्षा पर अपने ही सांसदों के सवाल, गठबंधन सहयोगी की नाराजगी और विधायक पर रेप व मर्डर के आरोप को लेकर भी चर्चा करेंगे।
-भाजपा की पूरी ताकत कनार्टक चुनाव में लगी है, उस बीच अमित शाह का लखनऊ आना यह बताता है कि लोकसभा चुनाव के पहले यूपी को मजबूत करने की कोशिश में जुटे हैं। शाह एमलएसी चुनावों पर भी बीजेपी के उम्मीदवारों का नाम फाइनल कर सकते हैं।

संगठन और सरकार की समीक्षा

-शाह की बैठक में प्रदेश संगठन के शीर्ष पदाधिकारियों के साथ अलग-अलग सत्रों में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके डिप्टी सहित दूसरे सहयोगी भी मौजूद रहेंगे। एजेंडा संगठन और सरकार के पेच कसने के साथ समन्वय का भी होगा। मिशन-2019 को साधने के लिए योगी सरकार की इस मोर्चे पर सफलता सबसे अहम है।
-बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पांडेय और संगठन महामंत्री सुनील बंसल के खिलाफ शिकायतें की गई है। वीं, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और योगी आदित्यनाथ के बीच बढ़ रही दूरियों पर भी शाह चर्चा करेंगे।

दलितों को लेकर बनेंगे रणनीति
– शाह ऐसे समय यूपी आ रहे हैं, जब एससी-एसटी एक्ट में बदलाव और आरक्षण को लेकर सियासत गरम है। सरकार पर दलितों के मुद्दे पर असफल रहने का यूपी के 4 सांसद लगा चुके हैं। शाह इस नाराजगी की काट निकलने के लिए विचार करेंगे।

मंत्रियों के कार्यों की समीक्षा
– मंगलवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय पर कई मंत्री चक्कर लगाते दिखे। शीर्षस्थ पदाधिकारियों से मिलकर अपनी बात रखते नजर आए। कार्यालय पर प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय, संगठन महामंत्री सुनील बंसल के साथ ही राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश भी मौजूद थे। कुछ मंत्रियों और विधायकों ने अलग-अलग इन लोगों से मुलाकात की। ऐसे में माना जा रहा है कि शाह आज कई मंत्रियों के रिपोर्ट पर चर्चा करेंगे।
– बताया जा रहा है कि कई मंत्रियों की फेरबदल में छुट्टी की जा सकती जबकि कई का कद बढ़ाया डा सकता है।

SP-BSP गठबंधन पर भी होगा मंथन
– गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में सपा-बसपा के साथ आने से बीजेपी की हार हुई है। इस गठबंधन से निपटने की रणनीति पर शाह बीजेपी नेताओं के साथ मंथन करेंगे। 2014 के लोकसभा चुनाव में यूपी के प्रभारी रहे शाह यहां की चुनावी जमीन और इन दोनों दलों की कोर स्ट्रेंथ को बखूबी समझते हैं। ऐसे में इनसे निपटने के लिए शाह रणनीति पर अमल करेंगे।