आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते- सेना प्रमुख बिपिन रावत

नई दिल्ली। भारत के सेना प्रमुख बिपिन रावत ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए सेना प्रमुख ने कहा कि पाकिस्तान ने अपने स्टेट को इस्लामिक स्टेट बना दिया है। पहले पाकिस्तान को हमारी तरह धर्मनिरपेक्ष होना होगा।

जब पाकिस्तान अपनी कट्टर सोच से बाहर आकर हमारी तरह एक सेक्युलर स्टेट बनेगा, तब उसे एक मौका देने के बारे में सोचा जाएगा। सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा कि जब तक पाकिस्तान आतंकवाद को नहीं रोकता, तब तक हम उससे किसी भी तरह की बातचीत नहीं करेंगे।

उन्होंने पाकिस्तानी पीएम इमरान खान को कड़ी चेतावनी दी है। सेना प्रमुख ने कहा कि कभी भी आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं हो सकती।

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि भारत अगर दोस्ती की तरफ एक कदम बढ़ाएगा, तो हम दो कदम बढ़ाएंगे। इस पर सेना प्रमुख ने कहा कि पाकिस्तान की बात में विरोधाभास है। उनका बढ़ाया हुआ कदम सकारात्मक होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि कभी भी आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं हो सकती। उनकी बातों पर तब तक विश्वास नहीं किया जा सकता, जब तक वह भारत में आतंकी भेजना बंद नहीं करते।

सेना में महिलाओं की भागीदारी पर सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा, ‘आप सैन्य बलों में महिलाओं की भूमिका में बढ़ोतरी देखेंगे। हमने अभी उन्हें फ्रंटलाइन कॉम्बैट रोल की जिम्मेदारी नहीं सौंपी है। हमें लगता कि हम इसके लिए तैयार नहीं हैं।

इसे लेकर पश्चिमी देश ज्यादा खुले हुए हैं। यहां बड़े शहरों में लड़के-लड़कियां साथ में काम कर रहे हैं, लेकिन सेना में लोग सिर्फ बड़े शहरों से नहीं आते।’