आमिर को इंडस्ट्री में हुए 30 साल, इतनी फीस मिली थी पहली फिल्म से

आमिर खान की पहली फिल्म ‘कयामत से कयामत तक’ को तीस साल हुए हैं। यह फिल्म 1988 में रिलीज हुई थी। इस मौके पर आमिर खान फिल्म से जुड़ी खास बातें लगातार कर रहे हैं। अब उन्होंने अपने मेहनताने का राज खोला है।

आमिर की यह पहली फिल्म थी। इस लिहाज से आमिर को भी इस इंडस्ट्री में 30 साल हो गए हैं। बुधवार को इस बारे में उन्होंने पत्रकारों से बात की। उन्होंने कहा ‘तीस साल में देखने वाले भी बदल गए हैं। ‘जो जीता वही सिकंदर’ अगर आज रिलीज हुई होती तो जबरदस्त हिट होती।’

आमिर ने बताया ‘पहली फिल्म के सुपरहिट होने के बाद भी मेरे पास इतने पैसे नहीं थे कि अपने लिए कार खरीद सकूं। मैं बस से आया-जाया करता था। एक बार लोगों ने मुझे घेर नहीं लिया, तब जाकर मुझे कार मिली। पहली फिल्म के लिए मुझे 1000 रुपए महीना दिया जाता था। कुल 11000 रुपए मुझे इस फिल्म से मिल पाए थे।’

बता दें कि आमिर की फिल्म ‘गजनी’ ने ही भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में 100 करोड़ क्लब की शुरुआत की थी। फिर तो इनकी फिल्मों ने 300 करोड़ से ज्यादा कमाई भी की।

कुछ दिन पहले एेसी ही एक मजेदार बात ‘कयामत से कयामत तक’ के फिल्म निर्देशक मंसूर खान ने जाहिर की थी।मंसूर खान का कहना है कि इस फिल्म का सुखद अंत भी उन्होंने फिल्माया था लेकिन दुखभरा क्लाइमैक्स रखने का ही फैसला अंतिम रहा। इस फिल्म को मंसूर के पिता नासिर खान ने लिखा और प्रोड्यूस किया था। यह ब्लॉकबस्टर थी और आमिर खान-जूही चावला का इससे स्टारडम हासिल हुआ था।

मंसूर ने कहा है ‘भले ही मेरे पिता ने शुरू में ही इसका दुखी कर देने वाला अंत लिख दिया था, लेकिन हमने शूट एक और अंत कर लिया था क्योंकि वे संशय में थे कि किस अंत को रखें। बाद में फिल्म का बहाव हमें इसके दुखभरे अंत की ओर ले गया क्योंकि यह फिल्म बार-बार किसी अनहोनी की ओर ईशारा कर रही थी। मैंने भी इसे रोमियो-जूलियत का अंत देना ही तय किया था।’

उस दौर का एक और किस्सा

उस दिन ‘कयामत से कयामत तक’ के गाने ‘गजब का है दिन’ की रिकॉर्डिंग हो रही थी। इस किस्से को अलका यागनिक ने कुछ एेसे कहा है ‘इस गाने को रिकॉर्ड करने के दौरान मेरा ध्यान एक हैंडसम लड़के पर गया, जो कोने में बैठकर यही गाना गुनगुना रहा था। जब रिकॉर्डिंग शुरू हो रही थी तो मैं बहुत नर्वस हो गई थी, क्योंकि आमिर लगातार मुझे देख रहे थे। इस वजह से मैं डिस्टर्ब हो रही थी। तब मैंने आमिर को बाहर जाने के लिए कह दिया था। उस वक्त तक मुझे पता नहीं था कि वही फिल्म के हीरो हैं।’ अलका ने कहा, ‘रिकॉर्डिंग के बाद मुझे मंसूर खान ने सभी से मिलवाया, तो वह हैंडसम लड़का भी खड़ा था। उस वक्त मैं काफी बुरा महसूस कर रही थीं।’ अलका ने बताया, ‘आमिर आज भी जब मुझसे मिलते हैं तो मुझे इस बात को लेकर खूब चिढ़ाते हैं। वो कहते हैं कि एक दिन अलका जी ने मुझे कमरे से बाहर कर दिया था।’