इस महीने गठित होगी रेरा समिति, रजिस्ट्रेशन के लिए मिलेगा 90 दिनों का समय

रियल इस्टेट रेगुलेशन एक्ट (रेरा) समिति का गठन अक्टूबर में हो जाएगा। रजिस्ट्रार की नियुक्ति के साथ ही समिति बनाने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। बताया जा रहा है कि इस पूरी प्रक्रिया में पंद्रह से बीस दिनों का समय और लगेगा। समिति गठित होने के बाद बिल्डरों को इसमें रजिस्ट्रेशन के लिए तीन महीने का समय दिया जाएगा।

गौरतलब है कि रेरा समिति के लागू होते ही बिल्डरों को प्रोजेक्ट बेचने में पूरी पारदर्शिता बरतनी होगी। उपभोक्ता की मर्जी के बिना वे अपने ब्रोशर तक में बदलाव नहीं कर सकेंगे तथा समय पर अपना काम पूरा करना होगा।

उपभोक्ता से किसी भी प्रकार का अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जा सकेगा। जानकारों का कहना है कि रेरा समिति बनने के बाद प्रॉपर्टी के क्षेत्र में केवल वे ही कंपनियां रहेंगी, जो सही काम कर रही हैं दूसरी कंपनियां अपने आप ही इस सेक्टर से बाहर हो जाएंगी।

प्रॉपर्टी की कीमत बढ़ेगी

जानकारों के अनुसार रेरा के असर से प्रॉपर्टी की कीमतों इजाफा होगा। साथ ही डिमांड भी बढ़ेगी।

उपभोक्ताओं को होगा फायदा

रेरा समिति का गठन होने से रियल इस्टेट के क्षेत्र में होने वाले गलत कामों पर पूरी तरह से रोक लग जाएगी। प्रॉपर्टी के क्षेत्र में सही कंपनियां ही रहेंगी, जिससे उपभोक्ताओं को काफी फायदा होगा – शैलेष वर्मा, अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ क्रेडाई