उन्हें खाना ही तब मिलता था जब दीदी के कहे गंदे काम को वो कर दें

क्राइम ब्रांच ने घर से भागी दो नाबालिग बच्चियों से शहर के सूने मकानों में चोरी करवाने वाली महिला को गिरफ्तार किया है। क्राइम ब्रांच ने महिला के पास से कीमती सामान बरामद कर पुलिस ने जेजे एक्ट के तहत कार्रवाई की है।

क्राइम ब्रांच के अनुसार शुक्रवार सुबह सूचना मिली थी कि दो नाबालिग बच्चियां नारियलखेड़ा में घरों में तांक-झांक करती घूम रही है। वह पहले भी इस इलाके में देखी जा चुकी हैं, वह संदिग्ध लग रही है। जानकारी के बाद क्राइम ब्रांच की एक टीम को मौके पर भेजा।

बताए गए हुलिए के अनुसार दोनों बच्चियों को हिरासत में लेकर गौतम नगर थाने लाया। जहां उन्होंने कई दिनों से सूने मकानों में चोरी करना स्वीकार कर लिया। वह घर के दरवाजे खुले होने पर अंदर घुस जाती थी। यदि उन पर किसी की नजर पड़ती तो वह ट्यूशन और कोचिंग की जानकारी लेकर उनको गुमराह कर देती थी। नजर नहीं पड़ती थी तो वह घर का कीमती सामान चुराकर भाग जाती थी।

बच्चियों की मुंह बोली बहन है आरोपी

दोनों बच्चियों ने क्राइम ब्रांच की टीआई संध्या मिश्रा को दिए बयान में कहा है कि वह मूलतः अमन कॉलोनी की रहने वाली है। छह महीने पहले उन्होंने अपना घर छोड़ दिया था। उसके बाद वह बिलाल कॉलोनी में अपनी मुंहबोली बहन रूखसार के घर रहने लगी। रूखसार दोनों से चोरी करवाती थी। क्राइम ब्रांच ने बच्चियों द्वारा तलैया, निशातपुरा, अशोका गार्डन और गौतम नगर इलाकों से चुराया गया सामान बरामद किया है।

चोरी के सामान देने पर मिलता था खाना

क्राइम ब्रांच ने एकता बिलाल कॉलोनी करोंद में पहुंचकर रूखसार पति अरमान (23) को हिरासत में लिया। बच्चियों से आमना- सामना कराया तो बच्चियों ने बताया वे चोरी का सामान लाकर रूखसार को देती थी। जिसके बदले में वह उनको खाना और पहनने के लिए कपड़े देती थी। साथ ही घर में रहने की जगह भी देती थी। खुलासे के बाद क्राइम ब्रांच ने रूखसार के खिलाफ जेजे एक्ट (जुवेनाइल जास्टिस एक्ट) के तहत एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया।