एएसआई के आंकड़ों के मुताबिक इन 5 स्मारकों से सबसे ज्यादा कमाती है सरकार

अगर कोई आपसे कोई सवाल करें कि आपको भारत की कौन-सी ऐतिहासिक इमारत सबसे खूबसूरत लगती है, तो आप क्या कहेंगे? कुतुबमीनार, गेट वे ऑफ इंडिया, ताजमहल, अक्षरधाम मंदिर या फिर कोई और ऐतिहासिक इमारत। हाल ही में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक भारत के टॉप 5 राजस्व पैदा करने वाले स्मारकों की सूची में ताजमहल के अलावा आगरा का किला, कुतुब मीनार, फतेहपुर सीकरी और लाल किला क्रमानुसार शामिल हैं।

सबसे ज्यादा ताजमहल ने की कमाई 

एएसआई के आंकड़ों के मुताबिक, इन 5 स्मारकों ने 2017-18 में 146.05 करोड़ रुपये की कमाई की। दिलचस्प है कि इन 5 की कमाई भारत में बाकी बचे इमारतों की कुल कमाई के आधे से भी ज्यादा है। भारत में स्थित स्मारकों ने 2017-18 में कुल 271.8 करोड़ रुपये की कमाई की है।

ताजमहल ने सबसे ज्यादा 56.83 करोड़ रुपये की कमाई की है। जानकारी के मुताबिक 2016-17 के बाद से इन स्मारकों में आगंतुकों की संख्या एका-एक बढ़ी है।

इस वजह से ताजमहल ने की ज्यादा कमाई 

ताजमहल के बाद 32.3 लाख लोगों की संख्या के साथ ओडिशा का कोणार्क सूर्य मंदिर जरूर दूसरे स्थान पर रहा, लेकिन यहां सिर्फ 10.06 करोड़ की ही कमाई हो सकी। अधिकारियों की मानें तो यहां आने वाले लोगों कि संख्या इसलिए भी कम रही क्योंकि यह स्थल केवल भारतीय पर्यटकों के बीच लोकप्रिय है। कमाई का गणित ये है कि विश्व धरोहर स्मारकों को लिए भारतीय पर्यटकों को एक टिकट के लिए 30 रुपये चुकाने होते हैं, वहीं विदेशी पर्यटकों को एक टिकट के लिए 500 रुपये चुकाने पड़ते हैं। ऐसे में जहां विदेशी पर्यटक ज्यादा आते हैं, उन स्मारकों की कमाई ज्यादा होती है।