एक्ट्रेस ने खोला ‘खतरों के खिलाड़ी’ का सच, मौत-सा अहसास हुआ था पानी में

भोपाल। कलर चैनल पर प्रसारित हुए खतरनाक स्टंट से भरे रियलिटी शो ‘खतरों के खिलाड़ी’ की प्रतिभागी रहीं उर्वशी शर्मा शुक्रवार को भोपाल में थीं। वे जीटीवी पर शुरू हो रहे अपने नये सीरियल ‘एक मां जो लाखों के लिए बनी अम्मा’ के प्रमोशन के लिए आई थीं। उनके साथ शाहवर अली भी थे। जानें इस दौरान उर्वशी ने क्या कहा…
खतरों के खिलाड़ी में वाटर स्टंट डरावना एक्सपीरियंस
‘खतरों के खिलाड़ी’ बेहद डरावना एक्सपीरियंस था। हम सभी लड़कियां खतरनाक स्टंट पहली बार कर रहे थे। माइनस डिग्री टेम्प्रेचर पर पानी के टास्क को करना मानों मौत-सा अहसास दे रहा था। पानी में खड़े होने पर ही सांस फूल रही थी। ऐसे में माहौल में अपने टॉस्क को निभाना बेहद कठिन था। लेकिन एडवेंचरस होने के कारण कई टॉस्क मैंने कम्पलीट किए।
पहली नजर के प्यार से बन गए जीवनसाथी
सचिन जोशी जो अब मेरे हसबैंड हैं, उनसे पहली मुलाकात ब्रांड ट्रिपल एक्स की लॉन्चिंग में हुई थी। उन्होंने देखते ही कहा कि, उन्हें मुझसे प्यार हो गया है और शादी करना चाहते हैं। मुझे लगा यह खुद पागल है या मुझे पागल समझ रहे हैं। मैं टालती रही, लेकिन वो मानने को तैयार नहीं। जब मिले तो काफी बातें हुईं फिर दोस्ती हुई। इसके बाद मिलने-समझने का सिलसिला ढाई साल चला। एक दिन अचानक वो बोले कि हम चार दिन बाद 27 फरवरी को शादी करेंगे। वो भी कश्मीर की डल लेक पहाड़ों के बीच खूबसूरत वादियों में। सब इतना और अचानक? कुछ समझ नहीं आ रहा था। लेकिन सचिन ने कहा कि सिर्फ आपकी और मेरी फैमिली के अलावा कुछ फ्रेंड्स शामिल होंगे। मुंबई में रिसेप्शन दे देंगे। मैंने तुरंत अपनी डिजाइनर दोस्त को कॉल किया। उसने रातों-रात मेरे लिए वेडिंग ड्रेस तैयार कर दी। हमनें वहां पहले स्कीईंग की। 27 फरवरी को शादी के बंधन में बंध गए। अब मेरी परी जैसी बेटी है समायरा।
डॉक्टर बनते-बनते बन गई एक्ट्रेस
उर्वशी बताती हैं कि मैं दिल्ली की पंजाबी फैमिली से हूं। बिंदास, पंजाबी माहौल। मैं मेडिकल एग्जाम की तैयारी कर रही थी। डॉक्टर बनने का ड्रीम था, लेकिन कहते हैं डेस्टिनी सबसे ज्यादा बलवान होती है। जो प्लान करते हैं, वो कभी नहीं होता। दोस्तों के कहने पर एड मॉडलिंग शुरू की। मेरी बहन सुचेता मॉडलिंग करती थी। उस वक्त क्लास 12 में थीं। फिर मॉडलिंग शुरू की, तो स्टडीज पर ब्रेक लग गया। मैं कॉलेज स्टडीज कंप्लीट नहीं कर पाई। पांड्स, गार्नियर जैसे ब्रांड के लिए मॉडलिंग करते हुए टिप्स की फिल्म नकाब मिल गई। उसमें बहुत ही चैलेंजिंग कैरेक्टर रहा है। उसमें जहां मैंने ग्लैमरस कैरेक्टर निभाया वहीं इस सीरियल में अम्मा जी में बिल्कुल अपोजिट। मुझे चैलेंज पसंद है। टीवी शो के किरदार को भी चैलेंज की तरह लिया। एक कॉमन वुमेन से गॉडमदर बनने का बहुत ही चैलेंजिंग कैरेक्टर रहा। अपने बराबर या ज्यादा उम्र के कलाकार की मां का किरदार निभाना। उस विभाजन के समय की अम्मा जी के लिए मैंने वजन बढ़ाया, ताकि मैच्योर दिख सकूं। ढाई साल की बेटी समायरा से दूर हैदराबाद में 50 डिग्री सेल्सियस में शूटिंग की। स्किन जली, लेकिन हसबैंड के सपोर्ट से मैं इस किरदार को निभा पाई।

कभी नहीं हुआ स्टेज फियर
स्कूल में सिंगिंग-डांसिंग में पार्ट लेती थी। वॉलीबॉल चैंपियन, कथक डांसर सारी चीजों ने मेरा कांफीडेंस बढ़ाया। इसलिए कैमरा फेस करने में दिक्कत नहीं हुई। मैंने फिल्म, थियेटर किया अब टीवी शो कर रही हूं।

Leave a Reply