कमलनाथ ने CM को घेरा, बोले- अमेरिका से अच्छी’ सड़कों की सेल्फी भी लें

भोपाल. कांग्रेस नेता कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को उनकी 1 नवंबर से होने वाली विकास यात्रा पर जमकर घेरा है। उन्होंने कहा कि शिवराज मंदसौर में उन किसानों के घर जरूर जाएं जिन्होंने कर्ज से तंग होकर आत्महत्या की है। वे जिलों में खराब सड़कों की सेल्फी भी लें, जिससे लोग ‘अमेरिका से अच्छी’ इन सड़कों को भी देख सकें।
‘अमेरिका से अच्छी’ सड़कों की सेल्फी भी लें
– आप विकास यात्रा की शुरूआत मंदसौर जिले से कर रहे हैं। मेरा सुझाव है कि आप 6 जून को गोलीकांड में शहीद हुए उन किसानों के घर श्रद्धांजलि देकर यात्रा शुरू करें, जिन्हें अभी तक न्याय नहीं मिल पाया है।
– जिस जिले में जाएं, उस जिले में जिस भी किसान ने कर्ज के बोझ या सरकार की नीतियों से परेशान होकर आत्महत्या की हो, उस किसान के घर जरूर जाएं। इससे आपको आपकी सरकार के विकास का आंकलन स्वयं हो जाएगा। किसानों की वास्तविक स्थिति का भी पता चल जाएगा एवं सरकार की ओर से पीड़ित किसान परिवार की मदद भी हो जाएगी।
– यात्रा के दौरान जिले की कृषि मंडी में भी जरूर जाएं। वहां अपनी फसल बेचने आए किसानों से भी मिलें। इसके आपको अपनी सरकार की महती भावांतर योजना की जमीनी हकीकत भी पता चल जाएगी और किसानों को उनकी उपज का सही दाम भी मिल पा रहा है या नहीं, इसका पता चल जाएगा। वास्तव में व्यापारी किसानों को फसल का 50 हजार रुपए का भुगतान नकद में कर रहे हैं, उसकी वास्तविकता भी पता चल जाएगी।
– आपने अभी वॉशिंगटन में प्रदेश की सड़कों को लेकर जो बयान दिया है। इस यात्रा के दौरान जिस जिले में भी जाएं तो वहां की सड़कों की वर्तमान स्थिति की सेल्फी लेकर जरूर जारी करें, जिससे प्रदेशवासी भी अमेरिका
से अच्छी अपने प्रदेश की सड़कों को देख सकें। शेष पेज 4 पर
– जिस दिन भी टीकमगढ़ जिले में जाएं तो वहां कपड़े उतारकर जेल में बंद किए पीड़ित किसानों से भी अवश्य मिलने जाएं, जिससे आपको इस आंदोलन में आपके द्वारा कहे अनुसार कांग्रेस के षड़यंत्र की वास्तविकता पता चल सके।
– बार-बार बुलाने के बावजूद आप अभी तक सरदार सरोवर डूब प्रभावितों से मिलने व उनके पुनर्वास को देखने नहीं जा पाए हैं। इस यात्रा में प्रभावितों से मिलने का कार्यक्रम जरूर तय करें।
– प्रदेश के 35 जिले अल्पवर्षा की मार से सूखे से जूझ रहे हैं और सूखा क्षेत्र घोषित होने की राह देख रहे हैं। कुछ इलाके ही सूखा क्षेत्र घोषित हुए हैं। बाकी अभी भी घोषणा के इंतजार में बैठे हैं। इस यात्रा में आप उन इलाकों की जमीनी हकीकत को भी जरूर देखें और उन्हें भी तत्काल सूखा क्षेत्र घोषित करें।
– आपने बीते दिनों जोर शोर से नर्मदा सेवा यात्रा भी निकाली थी। इस यात्रा में नर्मदा तट वाले जिलों में जाएं तो वहां आपकी नर्मदा यात्राके बाद क्या परिवर्तन आया है, जरूर देखने जाएं। इससे आपको वर्तमान में नर्मदा तट की वर्तमान स्थिति भी पता चल सकेगी।
– यात्रा के दौरान रेत उत्खनन वाले जिलों में जाएं तो रेत उत्खनन से लेकर उसकी आज की वर्तमान स्थिति को देखने जाएं। इसके आपको बड़े पैमाने पर अवैध रेत उत्खनन का पता चल सकेगा।
– प्रदेश में 2 जुलाई को बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण अभियान चलाकर करीब 6.5 करोड़ पौधे लगाकर, उसे गिनीज बुक रिकार्ड में आने का दावा किया था। इस यात्रा में उन पौधों की वर्तमान स्थिति को देखने भी अवश्य जाएं।
– इस यात्रा में युवाओं से भी जरूर मिलें, जिससे आपकी 14 वर्ष की सरकार में उनके रोजगार की वर्तमान स्थिति व बेरोजगारी के बढ़ते आंकड़े का भी पता चल सके।