कांकेर के पास एक माह से खतरनाक जानवरों का जमावड़ा, अब दिखे तीन तेंदुए

कांकेर। मुख्यालय से लगे शिवनगर और उदय नगर के बीच की पहाड़ियों में रविवार की शाम तीन तेंदुओं को एक साथ देखे जाने से हड़कंप मच गया है। कुछ दिनों पहले शहर के दूसरे छोर राजापारा वार्ड में भी लगभग दो सप्ताह तक तेंदुए का आतंक बना हुआ था। अब शिव नगर में तेंदुआ देखने के बाद लोगों में खौफ पैदा हो गया है।

नगर के खगेश्वर राणा, पीयूष, सुशील ठाकुर आदि ने बताया कि मादा तेंदुआ आराम से पत्थर में बैठी थी और दो शावक आसपास खेलते देखे गये। दोपहर से ही तेंदुआ देखे जाने की खबर से वार्डवासियों में हड़कंप मचा हुआ था। शाम पांच बजे जैसे ही तेंदुआ पहाड़ी के ऊपर आया कैमरे में कैद कर लिया गया।

वन्य प्राणी विशेषज्ञों का कहना है कि अपने बच्चों के साथ कोई भी मादा जल्द ही हिंसक हो जाती है इसलिये पहाड़ी की ओर कोई जाने की हिम्मत नहीं कर रहा। मगर मुख्यालय के चारों तरफ लगातार जंगली जानवरों के जमावड़े से आम लोग चिंतित नजर आने लगे हैं।

वन विभाग के अधिकारियों को फोन पर वार्डवासियों ने सूचना दे दी थी। चार सदस्य मौके पर आकर कुछ देर लोगों को समझाया और वहां भीड़ ना करने की बात कहकर अपनी ड्यूटी पूरी कर ली। मगर वार्ड की महिलाएं रमाबती, अहिल्या आदि डरी हुई हैं। उनका कहना है कि अपने बच्चों के भोजन की तलाश में मादा तेंदुआ किसी के घर घुस गई तो खतरनाक हो सकता है। तेंदुए के परिवार को जल्द ही शहर से दूर वन्य इलाके में खदेड़ने की मांग वन विभाग से की गई है।

पिछले एक माह से खतरनाक जानवरों का जमावड़ा

कांकेर मुख्यालय में काफी दिनों से वन्य प्राणियों की सक्रियता बढ़ी है। इससे लोग डरे हुये हैं। चार दिन पहले गोंविदपुर में नेशनल हाइवे के किनारे भालू दिनभर पेड़ पर बैठा नजर आया। राजापारा वार्ड में लगभग एक पखवाड़े से एक तेंदुए के कारण दहशत का माहौल बना रहा। इधर कुलगांव के पास कुछ लोगों ने बाघ देखे जाने की बात कही थी और अब शिव नगर में दिनदहाड़े तेंदुए देखे जाने से नगरवासियों में दहशत का माहौल है।