किसान हितैषी योजनाओं से रूका मजदूरों का पलायन: डॉ. रमन सिंह : मुख्यमंत्री ने 1.67 लाख से ज्यादा किसानों को दिया 256.61 करोड़ का बोनस

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा – केन्द्र और राज्य सरकार की किसान हितैषी योजनाओं से छत्तीसगढ़ में खेती का बेहतर विकास हो रहा है और रोजगार के लिए गांवों से मजदूरों का पलायन रूका है। डॉ. सिंह ने कहा – प्रदेश के किसानों को धान का बोनस देने का जो संकल्प हमने लिया था, वह बोनस तिहार के जरिये पूरा हो रहा है। किसानों के चेहरों पर रौनक आयी है। उन्हें पिछले साल का बोनस इस वर्ष दीपावली से पहले ऑन लाइन दिया जा रहा है। अगले साल भी उन्हें धान का बोनस दिया जाएगा। मुख्यमंत्री आज प्रदेश के जिला मुख्यालय बेमेतरा और ग्राम खरोरा (जिला रायपुर) में बोनस तिहार के अवसर पर हजारों की संख्या में आए किसानों, ग्रामीणों और आम नागरिकों की विशाल आमसभाओं को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा – किसानों की खुशहाली से ही गांवों में और गरीबों के जीवन में भी खुशहाली आएगी और छत्तीसगढ़ राज्य तरक्की के रास्ते पर तेजी से आगे बढ़ेगा। 
मुख्यमंत्री ने कहा -बेमेतरा नया जिला है। पांच साल पहले इसका गठन किया गया था। जिला बनने के बाद यहां जनता की सुविधा के लिए अधोसंरचना विकास के कार्य तेजी से हो रहे हैं। बोनस तिहार के दोनों कार्यक्रमों में किसानों की ओर से मुख्यमंत्री का आत्मीय स्वागत और अभिनंदन किया गया। डॉ. रमन सिंह ने इस अवसर पर लैपटाप का बटन दबाकर दोनों जिलों के एक लाख 67 हजार से ज्यादा किसानों के बैंक खातों में वर्ष 2016 के धान बोनस की 256 करोड़ 61 लाख रूपए की धनराशि कुछ ही पलों में हस्तांतरित कर दी। डॉ. सिंह ने दोनों आमसभाओं को सम्बोधित करते हुए राज्य में वर्ष 2003-04 से अब तक लगभग 14 वर्षाें में किसानों की बेहतरी के लिए अपनी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों और संचालित योजनाओं की विस्तार से जानकारी दी। डॉ. सिंह ने बोनस तिहार को दीपावली से पहले किसानों की एक और दीपावली बताया।   
उन्होंने बेमेतरा के बेसिक स्कूल मैदान में आयोजित बोनस तिहार में 74 हजार 114 किसानों को 115 करोड़ 58 लाख रूपए और खरोरा में रायपुर जिले के 93 हजार 257 किसानों को लगभग 141 करोड़ रूपए का धान बोनस देकर बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने दोनों कार्यक्रमों प्रतीक स्वरूप कई किसानों को धान बोनस का प्रमाण पत्र भी भेंट किया। मुख्यमंत्री ने बेमेतरा के कार्यक्रम में विभिन्न सरकारी योजनाओं के तहत बड़ी संख्या में हितग्राहियों को सामग्री और चेक आदि का भी वितरण किया। उन्होंने बेहतरा जिले के 500 गरीब परिवारों की महिलाओं को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस कनेक्शन और श्रम विभाग की योजना के तहत 50 महिला श्रमिकों को निःशुल्क साइकिल प्रदान कर उनके प्रति अपनी शुभेच्छा प्रकट की।

डॉ. सिंह ने खरोरा में आयोजित कार्यक्रम में रायपुर जिले के धरसींवा विकासखंड के 12 हजार 571 किसानों को 19.76 करोड़ रूपए, तिल्दा विकासखंड के 24 हजार 647 किसानों को 38.68 करोड़ रूपए, आरंग विकासखंड के 34 हजार 106 किसानों को 51.70 करोड़ रूपए और अभनपुर विकासखंड के 21 हजार 933 किसानों को 30.88 करोड़ रूपए का बोनस दिया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के हाथों लगभग दो हजार हितग्राहियों को विभिन्न योजनाओं के तहत 20 करोड़ की सामग्री और अनुदान राशि प्रदान की गई। इनमें श्रम विभाग की मुख्यमंत्री सायकल सहायता योजना, भगिनी प्रसूति सहायता और नौनिहाल छात्रवृत्ति योजना के साथ ही प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, मुद्रा योजना, उजाला योजना, सक्षम योजना, महिला कोष तथा कृषि विभाग की विभिन्न योजनाआंे के हितग्राही भी शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने नगर पंचायत खरोरा के लिए 19.33 करोड़ रूपए की जल आवर्धन योजना का भूमिपूजन किया। इसके साथ ही उन्होंने गौण खनिज मद से रायपुर जिले के खनन प्रभावित 6 गांवो को आदर्श ग्राम के रूप विकसित करने के लिए भी स्वीकृत निर्माण कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास किया।
मुख्यमंत्री ने खरोरा के कार्यक्रम में 1.59 करोड़ की लागत से निर्मित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भवन और 1.76 करोड़ की लागत से वीरसावरकर नगर और भनपुरी में निर्मित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भवन तथा खरोरा के पुलिस थाना भवन का भी लोकार्पण किया। बेमेतरा के बोनस तिहार में मुख्यमंत्री के साथ कृषि और जल संसाधन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल, खाद्य मंत्री श्री पुन्नूलाल मोहले, सहकारिता मंत्री श्री दयालदास बघेल, संसदीय सचिव श्री लाभचंद बाफना, विधायक श्री अवधेश चंदेल और पूर्व सांसद सुश्री सरोज पाण्डेय सहित विभिन्न संस्थाओं के अनेक पदाधिकारी और जिले के विभिन्न क्षेत्रों से आए पंचायत प्रतिनिधि भी उपस्थित थे। खरोरा में आयोजित बोनस तिहार में कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल, खाद्य मंत्री श्री पुन्नूलाल मोहले, लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस, विधायकगण सर्वश्री देवजी भाई पटेल, नवीन मारकण्डेय, श्रीचंद सुंदरानी, राज्य सहकारी बैंक (अपेक्स बैंक) के अध्यक्ष श्री अशोक बजाज, कृषि एवं बीज विकास निगम के अध्यक्ष श्री श्याम बैस, छत्तीसगढ़ राज्य वित्त आयोग के अध्यक्ष श्री चन्द्रशेखर साहू सहित अन्य अनेक वरिष्ठ जनप्रतिनिधि भी शामिल हुए।