कोहनी से कटकर अलग हो चुका था हाथ, थैली में लेकर एमवाय अस्पताल पहुंचा, डॉक्टरों ने जोड़ा

फैक्टरी में काम करते हुए एक युवक का हाथ कटकर अलग हो गया। वह कटे हाथ को थैली में रखकर एमवाय अस्पताल पहुंचा। यहां रातोरात डॉक्टरों ने उसके हाथ को जोड़ने की सर्जरी की। उसका हाथ जुड़ चुका है और अब 23 दिन बाद डॉक्टरों का दावा है कि सर्जरी सफल रही। अस्पताल में इस तरह की पहली सर्जरी हुई है।

हिम्मत नगर में रहने वाला अशोक पिता संतोष रोकड़े (23) 11 सितंबर को रात में अस्पताल पहुंचा था। उसका हाथ कोहनी के नीचे से पूरी तरह अलग हो गया था। वह पूरी तरह खून से लथपथ था। डॉक्टरों ने तुरंत जटिल सर्जरी कर उसे विकलांग होने से बचा लिया। सर्जरी विभाग के एचओडी डॉ. आरके माथुर के मार्गदर्शन में सर्जरी की गई। कटे हाथ को फिर जोड़ा गया। सर्जरी पूरी रात करीब छह घंटे चली। युवक अस्पताल की तीसरी मंजिल पर भर्ती है। कंधे से उसके हाथ में क्रिया शुरू हो गई है। डॉक्टरों का कहना है कि कटे हाथ में 100 तो नहीं लेकिन 60 फीसदी सेंस आ जाएगा। सामान्य तौर पर ऐसी दुर्घटना की स्थिति में मरीजों को कृत्रिम अंग लगाए जाते हैं लेकिन इस युवक को खुद का अंग लगाया गया। उसकी स्थिति फिलहाल ठीक है। सर्जरी करने वाली टीम में डॉ. सचिन वर्मा, डॉ. संजय महाजन सहित जूनियर डॉक्टर शामिल थे।