‘कौआ बिरयानी’ खाकर मशहूर हुआ ये एक्टर, इस बात में है सुपरस्टारों का भी बाप

कहा जाता है कि हंसाना सबसे मुश्किल काम है। जितनी मेहनत आपको किसी को हंसाने में करनी पड़ती है उतनी शायद किसी और काम में नहीं। इसीलिए हंसाने के चक्कर में कई एक्टर ओझी हरकतें करने तक से भी परहेज नहीं करते, कई उल्टे-सीधे जोक्स भी क्रैक कर देते हैं…लेकिन बॉलीवुड में एक ऐसा एक्टर है जो उल्टे-सीधे डायलॉग या मसखरी किए बिना ही अपनी एक्टिंग से लोगों को हंसा-हंसाकर पागल कर देता है।
यहां बात हो रही है एक्टर विजय राज की जो कौआ बिरयानी जैसा पॉपुलर किरदार निभाने के लिए जाने जाते हैं। विजय राज और उनकी एक्टिंग के लोग इस कदर दीवाने हैं कि स्क्रीन पर अगर एक सीन में भी वो नजर आ जाएं तो सिनेमाहॉल में लोग सीटियां बजाकर उनका स्वागत करते हैं।
किसी भी मायने में विजय राज बॉलीवुड ने खान सुपरस्टार्स या कपूर से कम नहीं हैं।
सिर्फ एक्टिंग ही नहीं अपने दमदार वन लाइनर के लिए भी विजय राज काफी मशहूर हैं फिर चाहें वो ‘रन’ का डायलॉग हो ‘एक्सक्यूज मी, हमको उल्टी आ रहा है या फिर ‘धमाल’ का वो डागयलॉग जिसमें वो कहते हैं ‘अबे हेल्प मांग रहे हो या जान मांग रहे हो।’
विजय राज यानि कौआ बिरयानी के हर डायलॉग पर सीटियां और तालियां बज उठती हैं।
दिल्ली में जन्मे विजय राज कॉलेज के दिनों से ही थियेटर का हिस्सा रहे। नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से जुड़े रहने के दौरान उन्होंने कई नाटकों में हिस्सा लिया, लेकिन विजय राज फिल्मों में अपनी किस्मत आजमाना चाहते और बस उसे तराशने के लिए मुंबई चले गए।
वहां उन्हें जैसे तैसे रामगोपाल वर्मा की फिल्म ‘जंगल’ में काम मिल गया, लेकिन पहचान फिर भी नहीं मिली।
विजय को फिल्मों में पहचान दिलाने का क्रेडिट अगर किसी को जाता है तो वो हैं एक्टर नसीरुद्दीन शाह। नसीरुद्दीन शाह ने उन्हें थियेटर के दिनों में परफॉर्म करते हुए देखा था और तभी से वो विजय राज की एक्टिंग के कायल हो गए थे।
उन्होंने विजय राज को कई फिल्मों में काम दिलाया जिनमें ‘भोपाल एक्सप्रेस’ और ‘मॉनसून वेडिंग’ जैसी फिल्में शामिल हैं। इन फिल्मों ने विजय राज को एक स्टार का स्टेटस दिला दिया था।

Leave a Reply