कौन सीएम बनेगा, इसे नहीं बताया जा सकता : पुनिया

धमतरी। 25 मई को झीरम घाटी से शुरू हो रही संकल्प यात्रा में शामिल होने बस्तर जा रहे छत्तीसगढ़ के कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया ने कहा कि छत्तीसगढ़ में सभी सीटे जीतने का लक्ष्य है। बूथ लेवल पर कार्य किया जा रहा है। प्रभारियों को ट्रेनिंग दी गई है। आधुनिक तरीके से चुनाव लड़ा जाएगा।

उन्होंने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा कि कर्नाटक में सफलता मिली है। कांग्रेस का वोट 38 प्रतिशत रहा जबकि भाजपा का सिर्फ 36 प्रतिशत रहा। भाजपा सीबीआई को मोहरा बनाकर राजनीति कर रही है। राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के निर्णय के अनुसार छत्तीसगढ़ में सामूहिक नेतृत्व के माध्यम से विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा। जीत के बाद इन्हीं में से किसी एक को मुख्यमंत्री बनाया जाएगा।

कौन सीएम बनेगा, इसी नहीं बताया जा सकता। 15 अगस्त तक चुनाव टिकट 90 प्रतिशत फायनल कर दिया जाएगा। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस अकेले चुनाव लड़ेगी। कोई गठबंधन नहीं होगा। प्रदेश के बस्तर क्षेत्र में नक्सली हमले में सात जवान शहीद हो गए, इसका भाजपा सरकार को कोई गम नहीं है।

लाखों खर्च कर विकास यात्रा के नाम पर अपना स्वागत कर जश्न मनाने में डूबी है। विकास कहां हुआ है, यह सरकार दिखाए। इस अवसर पर राज्यसभा सदस्य छाया वर्मा, नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंह देव, पूर्व मंत्री सत्यनारायण शर्मा, कांगे्रस जिलाध्यक्ष लेखराम साहू, करूणा शुक्ला, पूर्व जिलाध्यक्ष कांग्रेस मोहन लालवानी, भरत नाहर, नगर पंचायत भखारा के अध्यक्ष विनोद साहू, विजय देवांगन, आशुतोष शर्मा, जयनारायण बाघमार, संतोषी निषाद समेत अन्य कांग्रेसी मौजूद थे।

झीरमघाटी कांड राजनैतिक अपराधिक षड़यंत्र : बघेल

24 मई को पत्रकारों के साथ चर्चा में कांग्रे्रस के प्रदेशाध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि झीरमघाटी में हुई घटना कोई सामान्य घटना नहीं है। यह राजनैतिक अपराधिक षड़यंत्र है। लगातार कांग्रेस इसकी सीबीआई जांच की मांग कर रही है। लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि सीबीआई ने इसे जांच योग्य नहीं पाया।

आज तक 19 लोगों के मौत के जिम्मेदार अपराधी पकड़े नहीं गए। झीरमघाटी कांड की पांचवीं बरसीं पर कांग्रेस उसी स्थान से परिवर्तन यात्रा शुरू करने जा रही है। दंतेश्वरी मंदिर में दर्शन के बाद झीरमघाटी जाएंगे। झीरमघाटी के उस स्थल को नमन कर केशलुर में सभा लेंगे। बस्तर में कुल तीन दिनों तक आठ विधानसभा क्षेत्रों का दौरा कर कार्यकर्ताओं की बैठक लेंगे।

इस अवसर पर पीसीसी सचिवद्वय आनंद पवार, पंकज महावर, जिलाध्यक्ष लेखराम साहू, मोहन लालवानी, नीशू चंद्राकर, विजय देवांगन, आलोक जाधव, नूर मोहम्मद मेमन, हरमिंदर छाबड़ा, आलोक पांडेय, वसीम कुरैशी, दुष्यंत घोरपड़े, योगेश लाल, निखिलेश देवान, देवव्रत साहू, तपन चंद्राकर, केजूराम साहू, राजेश चंद्राकर, गोलू शर्मा, श्रीराम केले, चंदू साहू, युनूस गोड़, शरद लोहाना, राजेश साहू, लक्ष्मीकांता साहू, हेमंत साहू समेत अन्य लोग उपस्थित थे।

एक माह 25 दिन में टूटा कांग्रेस का संकल्प

झीरमघाटी के कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष भूपेश बघेल और कांग्रेस नेता अरूण उरांव का कांग्रेस जिलाध्यक्ष लेखराम साहू के निवास में स्वागत हुआ। कांगे्रस ने अपनी बैठक में लिए गए संकल्प को तोड़ते हुए फूल मालाओं से नेताओं का स्वागत किया।

यहां तक लेखराम साहू चर्चा के दौरान फूलों का हार पहनकर बैठे रहे। उल्लेखनीय है कि 30 मार्च को कांग्रेस भवन में अभनपुर विधायक धनेन्द्र साहू, धमतरी विधायक गुरूमुख सिंह होरा की मौजूदगी में कांग्रेस की महत्वपूर्ण बैठक हुई।

इसी बैठक में कांग्रेस के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष लेखराम साहू ने पदभार ग्रहण किया था। बैठक में निर्णय लिया गया था कि जब तक जिले की तीनों विधानसभा सीटों का चुनाव नहीं जीत जाते, तब तक कोई भी नेता फूल माला नहीं पहनेंगे। एक माह 25 दिन में कांग्रेस का निर्णय पलट गया और संकल्प टूट गया।