क्यों महत्व होता है धार्मिक ग्रंथो में नागमणि का ,आखिर क्या है वो वजह जिससे खास है ये …

हम कई बार पड़ते आते है या फिर फिमो में नागमणि को देखते आते है ,पर क्या हमने कभी सच्चा है की वास्तविकता में में क्या है आखिर इसकी हक्कीकत क्यों होती है  यह इतनी खास ,क्या है मुख्य वजह तो चलिए आप को बताते है की आखिर क्यों खास होती है ये आपने भी कई बार किसी कहानी या फिल्मों में नागमणि के बारे में सुना होगा।

कथाओं के अनुसार नागमणि बहुत शक्तिशाली होती है, लेकिन आमतौर पर एक बात लोगों के मन में चलती रहती है कि क्या नागमणि हकीकत में है। अगर आपके मन में भी यही सवाल उठता है तो इसका जवाब आपको वृहत्ससंहिता में बताई इन बातों से मिलेगा। प्रमुख ग्रंथ वृहत्ससंह‌िता में जो उल्लेख म‌िलता है उसके अनुसार संसार में मण‌िधारी नाग मौजूद हैं। चूंक‌ि ऐसे नागों का म‌िलना दुर्लभ होता है,  इसल‌िए कहा जाता है मण‌िधारी नाग नहीं होते हैं।

अब सच जो भी है, लेक‌िन वृहत्ससंह‌िता में नागमण‌ि के बारे में कई रोचक बातें बताई गई हैं। जो इस बात को सोचने पर व‌िवश करता है क‌ि क्या वास्तव में नागमण‌ि होता है।  सर्पमण‌ि ज‌िसे नागमण‌ि भी कहते हैं यह व‌िशेष नाग के स‌िर पर स्‍थ‌ित होती है। नागमण‌ि में इतनी चमक होती है क‌ि जहां यह होती है वहां आस-पास तेज रोशनी फैल जाती है।नागमण‌ि मोर के कंठ के समान और अग्न‌ि के समान चमकीली द‌िखती है। नागमण‌ि अन्य म‌ण‌ियों से अध‌िक प्रभावशाली और अलौक‌िक होती है। यह मण‌ि ज‌िसके पास होती है उस पर व‌िष का प्रभाव नहीं होता है। यह रोग से मुक्त होते हैं।ऐसा भी कहा जाता है की इसकी रक्षा इच्छा धारी नाग नागिन करते है |