खजराना गणेश की दर्शन व्यवस्था में होगा बड़ा सुधर ….

इंदौर : साल के आखिर में एक सुखद खबर आयी हे |तो चलिए बताते हे आपको पूरी खबर ..अब जो लोग नए साल में इंदौर स्थित खजराना गणेश मंदिर दर्शन दर्शन के लिए जाएंगे |उन्हें महांकाल मंदिर की तर्ज पर ही नई व्यवस्था से दर्शन करना होंगे |नए साल पर खजराना गणेश मंदिर में भारी तादाद में दर्शनार्थियों की संभावना के मद्देनजर विशेष व्यवस्था की गई। 31 दिसंबर रात 12 से 1 जनवरी रात 12 बजे तक महाकाल की तर्ज पर दर्शन की व्यवस्था रहेगी। यही व्यवस्था 5 से 7 जनवरी तक लगने वाले तिल चतुर्थी मेले के दौरान भी लागू रहेगी।इस बार 4 लाख से ज्यादा दर्शनार्थियों के आने की संभावना जताई गई है। इसके चलते ट्रैफिक व्यवस्था भी चाक चौबंद की जाएगी। पिछले साल तक़रीबन ढाई लाख के करीब श्रद्धालु आये थे |जिसको ध्यान में रख कर प्रशाशन ने इसबार सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम पहले से भी कर रखे हे |
पहनाएंगे सोने का मुकुट:
तिल चतुर्थी मेले के दौरान 5 जनवरी को भगवान का स्वर्ण श्रंगार होगा। उन्हें सोने के मुकुट सहित करीब 2 करोड़ के आभूषण पहनाए जाएंगे। नव वर्ष पर भी फूलों से विशेष श्रंगार किया जाएगा। कैमरों से पूरे मंदिर की निगरानी की जाएगी।
ऐसी होंगी दर्शन व्यवस्था :-

गर्भगृह में भक्तों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

– एकसाथ 400 श्रद्धालु भगवान के दर्शन कर सकेंगे। मूर्ति के सामने चार स्टेप लगाई जाएंगी।

– 50 अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे।

– मंदिर परिसर में बैरिकेडिंग की जाएगी।

– 1 जनवरी को रिंग रोड चौराहे से खजराना मार्ग मंदिर की तरफ वनवे रहेगा।

– प्रवेश खजराना चौराहे से काली मंदिर के सामने वाले गेट से होगा जबकि वापसी गणेशपुरी से रिंग रोड पर होगी। यहां से श्रद्धालु बंगाली या खजराना चौराहा जा सकेंगे।