खुद को बताया मुख्यमंत्री का PA, और ऐसे ठग लिए 6 लाख रुपए

रायपुर। खुद को मुख्यमंत्री का पीए बताकर दस बेरोजगार युवकों को नौकरी दिलाने का झांसा देकर छह लाख रुपए ठगने का मामला तेलीबांधा थाने में पहुंचा है। पीड़ितों की शिकायत पर पुलिस ने धोखाधड़ी का अपराध कायम कर जांच शुरू कर दी है।

तेलीबांधा थाना प्रभारी लक्ष्मण खूंटे ने बताया कि तिल्दा नेवरा थाना क्षेत्र के ग्राम किरना निवासी नीलकंठ यदु समेत चंद्रदीप यदु, सौरभ यदु, कमलेश वर्मा, गोपाल यदु, रमेश यदु, चन्द्रशेखर यदु, लेखराम यदु, कैलाश प्रसाद साहू, विशम्भर वर्मा ने वर्तमान में तेलीबांधा, हीरानगर विशाल नगर में रह रहे मूलत: आमाकोनी सुहेला निवासी कामता प्रसाद यदु के खिलाफ ठगी की शिकायत दर्ज कराई है।

पीड़ितों ने आरोप लगाया है कि कामता ने अपने आप को मुख्यमंत्री का पीए होना बताकर रिश्तेदारी का हवाला देकर मंत्रालय में नौकरी दिलाने का झांसा दिया। फरवरी 2016 में अलग-अलग मोबाइल से उनसे संपर्क किया। उसके बाद बेरोजगारों को अलग-अलग दिनों में अपने घर बुलाकर कामता ने 50 से 80 हजार रुपए (कुल 6 लाख 11 हजार) स्टेट बैंक तेलीबांधा शाखा स्थित खाते में जमा करा लिया।

एसएसपी के हस्तक्षेप के बाद केस दर्ज पीड़ितों ने तेलीबांधा थाने में ठगी की शिकायत की थी, किंतु जांच में देर होने पर वे एसएसपी अमरेश मिश्रा से मिले। एसएसपी मिश्रा के हस्तक्षेप के बाद बुधवार को तेलीबांधा पुलिस ने कामता प्रसाद यदु के खिलाफ धारा 420 का अपराध कायम कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है।