गणतंत्र दिवस के मौके पर हो सकता था बड़ा आतंकी हमला ,साजिश नाकाम

अब तक की सबसे बड़ी खबर ,बता दे की देश के सबसे ऐतिहासिक दिन यानि गणतंत्र दिवस के दिन एक बड़े हमले की साजिश थी ,जिसका खुलासा हुआ हे ,चलिए आप को बता दे पूरी खबर विस्तार से सुरक्षा एजेंसियों की सतर्कता के चलते जीआरपी ने मथुरा में दिल्ली-भोपाल शताब्दी एक्सप्रेस से संदिग्ध आतंकी को गिरफ्तार किया है। इस संदिग्ध आतंकी ने दिल्ली में अपने दो साथियों के छिपे होने की जानकारी भी दी है।

मथुरा से आतंकी की गिरफ्तारी के बाद से ही पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। आपको बता दें कि आतंकी विलाल अहमद वानी कश्मीर के अनंतनाग का रहने वाला है।इसके बाद एटीएस और आईबी ने राजधानी की जामा मस्जिद इलाके में कई जगह छापामार कार्रवाई की है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक आतंकी गणतंत्र दिवस के दिन अक्षरधाम मंदिर को दहलाने की साजिश में थे। जीआरपी को खुफिया एजेंसियों से एक संदिग्ध कश्मीरी आतंकवादी के शताब्दी में यात्रा करने की खूफिया जानकारी मिली थी। रविवार सुबह 8.30 बजे ट्रेन के यहां पहुंचते ही कोच-3 से अनंतनाग (कश्मीर) के गांव बिलगांव के रहने वाले बिलाल अहमद वानी को दबोच लिया गया।
इससे पहले पूछताछ में वो वह बार-बार अपने बयान बदलता रहा और गणतंत्र दिवस से पहले किसी घटना को अंजाम दिए जाने की प्लानिग की भी जानकारी दी। वह अपने साथियों को उसका मास्टरमाइंड भी बता रहा था। उसने बताया कि वह दिल्ली में ड्राइविग करता था, लेकिन भाग निकला। गलत ट्रेन में बैठने के कारण वह मथुरा आ गया था। बाद में उसे एटीएस अज्ञात स्थान पर पूछताछ के लिए ले गई।वानी के दो साथी दिल्ली में जामा मस्जिद के पास एक गेस्ट हाउस में ठहरे थे। दोनों के फरार होने के बाद से जांच एजेंसियों की नींद उड़ी हुई है। सुरक्षा एजेंसियां दोनों संदिग्धों की तलाश में जुटी हुई हैं। दिल्ली और यूपी समेत कई राज्यों में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।आप को बता दे 26 जनवरी की सुरक्षा व्यवस्था दिल्ली पुलिस व अन्य सुरक्षा एजेंसियों लिए चुनौती बनी है। इस बार गणतंत्र दिवस पर 10 देशों के राष्ट्राध्यक्ष भारत आ रहे हैं। ऐसे में भारत की छवि खराब करने के लिए  आतंकी हमला कराना चाहते  है।