चीन और भारत की सेना में सबसे ज्यादा ताकतवर कौन है?

नई दिल्ली: भारत और चीन की सेनाओं की तुलना के बीच हमें इस इस सच्चाई को मानना होगा कि चीन का रक्षा बजट भारत से तीन गुना है. साल 2017 में चीन ने अपने रक्षा बजट में 152 बिलियन डॉलर का प्रावधान किया है, वहीं भारत का रक्षा बजट 53.5 बिलियन डॉलर का है. यह भी सच है कि सैनिकों की संख्या हो,लड़ाकू विमानों की संख्या हो या फिर टैंको की संख्या हो, चीन भारत से इक्कीस है.

चीन के पास निश्चित तौर पर भारत से ज्यादा लड़ाकू विमान हैं. लेकिन उसके पास भारतीय लड़ाकू विमान सुखोई 30 एमकेआई की कोई काट नहीं है. भारतीय सुखोई 30 एमकेआई चीन के सुखोई 30 एमकेएम से कहीं ज्यादा ताकतवर है. भारतीय सुखोई 30 एक साथ 20 निशाने साध सकता है जबकी चीनी सुखोई 30 एक बार में बस दो निशाने साध सकता है. इसके अलावा भारत-चीन सीमा की भौगोलिक स्थिति भी भारतीय वायुसेना के पक्ष में है. जंग के हालात में चीनी विमानों को तिब्बत के ऊंचे पठार से उड़ान भरनी होगी. लिहाजा ना तो चीनी विमानों में ज्यादा विस्फोटक लादे जा सकते हैं और ना ही ज्यादा ईंधन भरा जा सकता है. चीन की वायुसेना के पास अपने विमानों में हवा में ईंधन भरने की क्षमता भी काफी कम है

और पढ़े: ग्लोबल टाइम्स की भारत को चेतावनी, पीछे हटो नहीं तो चीन कर सकता है ‘सिक्किम की आज़ादी’ का समर्थन

चीन और भारत की सेना का आकलन

अगर सेना में भर्ती होने की उम्र वाले युवाओं की संख्या की बात की जाए, तो चीन के पास ऐसे करीब 1 करोड़ 95 लाख युवा हैं. जबकि भारत के पास 2 करोड़ 30 लाख.
हालांकि अगर सक्रिय सैनिकों की बात की जाए तो चीन हमसे आगे है, चीन के पास साढ़े 22 लाख सक्रिय सैनिक हैं, जबकि भारत के पास लगभग 12 लाख सक्रिय सैनिक हैं. सेना की ताकत की बात की जाए तो चीन के पास 6 हज़ार 457 कॉम्बैट टैंक हैं, जबकि भारत के पास 4 हज़ार 426 कॉम्बैट टैंक हैं.

आर्म्ड वेकिल्स की बात करें तो चीन के पास 4,788 हैं, जबकि भारत के पास 6,704. अगर दोनों देशों की हवाई ताकत की बात की जाए तो चीन के पास 2,955 लड़ाकू विमान हैं, जबकि भारत के पास 2,102. अब बात भारत और चीन की नेवी की कर लेते हैं. चीन के पास छोटे-बड़े सभी जहाज़ मिलाकर 714 नेवल एसेट्स हैं, जबकि भारत के पास ऐसे 295 नेवल एसेट्स हैं. चीन के पास एक एरयक्राफ्ट करैयिर है, जबकि भारत के पास 3 हैं. चीन के पास 35 डेस्ट्रोयार्स यानी विध्वंसक युद्धपोत हैं, जबकि भारत के पास 11 डेस्ट्रोयार्स  हैं. चीन के पास 68 सबमैरींस हैं, जबकि भारत के पास 15 पनडुब्बियां हैं. अब ज़रा दोनों देशों के रक्षा बजट की बात भी कर लेते हैं. चीन का रक्षा बजट 161.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर्स यानी करीब 10 लाख 50 हज़ार करोड़ रुपये का है. जबकि भारत का रक्षा बजट 51 बिलियन अमेरिकी डॉलर्स यानी 3 लाख 30 हज़ार करोड़ रुपये का है.