चुनाव को लेकर दो गुट भिड़े, जूनियर बोला- सीनियर को सलाम नहीं किया तो पीटा

ग्वालियर.छात्रसंघ चुनाव के लिए मतदान 30 अक्टूबर को होना है। लेकिन इसको लेकर एनएसयूआई व एबीवीपी के बीच विवाद अभी से शुरू हो गया है। बुधवार को जेयू के इंजीनियरिंग संस्थान आैर एमएलबी कॉलेज में छात्रों के दो गुटों के बीच जमकर लात-घूसे चले। वहीं मुरार के वीआरजी में कुछ दिन पहले हुई मारपीट के विरोध में छात्राआें ने हंगामा कर धरना दिया। छात्रा एनएसयूआई की आेर से अध्यक्ष पद की दावेदार है। उसने एबीवीपी की आेर से उपाध्यक्ष पद की दावेदार छात्रा पर मारपीट का आरोप लगाया है।
– एनएसयूआई के बैनर पर लड़े तो अंजाम ठीक नहीं होगा: जेयू के इंजीनियरिंग संस्थान में बीई प्रथम वर्ष के छात्र आयुष द्विवेदी ने थर्ड ईयर के सुमित यादव पर रैगिंग लेने के साथ ही बाहरी लोगों के साथ मिलकर धमकाने का आरोप लगाया है।
– उसका कहना है कि सुमित ने धमकी दी है कि एनएसयूआई के बैनर पर चुनाव लड़ा तो अंजाम ठीक नहीं होगा। बीई थर्ड ईयर के छात्र देवेश निम का कहना है कि उसने दोनों के बीच बचाव किया तो उसके साथ भी मारपीट की गई।
– सीनियर ने उनसे सलामी देने आैर डांस करने को कहा। मना करने पर मारपीट की। उधर एबीवीपी के बैनर पर अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने वाले सुमित यादव ने यूनिवर्सिटी थाने में आयुष द्विवेदी व सचिन द्विवेदी के खिलाफ शिकायती आवेदन दिया है।
– जिसमें कहा है कि आयुष और सचिन ने उसे इस बात पर पीटा कि वह एबीवीपी से चुनाव लड़ रहा है। सचिन ने धमकी दी है कि चुनाव लड़ा तो डिग्री के साथ उसकी लाश बक्से में बंद करके बिहार भेज देगा।
– वहीं डायरेक्टर प्रो. राजीव जैन का कहना है कि संस्थान में जूनियर की सीनियरों ने रैगिंग ली है, इसकी न तो जानकारी है आैर न ही शिकायत मिली है। एमएलबी कॉलेज में बाहरी छात्रों का विवाद होने पर प्रिंसिपल डॉ. केएस राठौर ने पुलिस बुलाकर छात्रों को उसके हवाले कर दिया।
वीआरजी: प्रत्याशी छात्रा बोली- प्रिंसिपल को नहीं हटाया तो मेरी लाश यहां से उठेगी
– मरने के बाद कोई तो आएगा मेरी आवाज उठाने के लिए। कॉलेज में जब मुझे छात्राओं ने पीटा तो कोई बचाने के लिए नहीं आया। न प्रोफेसर आए न छात्राएं। मैं तो धरने से तभी उठूंगी जब उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया मेरी समस्या को सुनने के लिए आएंगे।
– जब तक कॉलेज से प्रिंसिपल को हटाया नहीं जाता तब तक खाना नहीं खाऊंगी। यदि एेसा नहीं हुआ तो उसकी लाश उठकर कॉलेज से जाएगी। यह कहना था विजयाराजे सिंधिया गर्ल्स कॉलेज मुरार में एनएसयूआई की ओर से छात्रसंघ अध्यक्ष पद की प्रत्याशी एमए तीसरे सेमेस्टर की छात्रा शिखा भदौरिया का। छात्रा दो घंटे तक प्रिंसिपल कक्ष के सामने बैठकर न्याय के लिए रोती रही। शाम 5 बजे प्रोफेसरों ने समझाइश देकर छात्रा को धरने से उठा दिया।
– शिखा का आरोप था कि उसकी जूनियर बीकॉम पांचवें सेमेस्टर की छात्रा मुस्कान शिवहरे जो कि एबीवीपी की ओर से उपाध्यक्ष पद की प्रत्याशी है, ने 16 अक्टूबर को उसे क्लास में घुसकर पीटा। लेकिन छात्रा के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।
– छात्रा का आरोप था कि मुस्कान को चुनाव जितवाने के लिए प्रिंसिपल सुशीला माहोर सपोर्ट कर रही हैं। छात्रा के समर्थन में एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष जीतू राजौरिया कार्यकर्ताओं को लेकर पहुंच गए। छात्र नेताओं ने प्रिंसिपल डॉ. सुशीला माहोर को बुला लिया। लेकिन छात्रा ने बात करने से इनकार कर दिया। वहीं छात्रा मुस्कान का कहना था कि उसने शिखा के साथ कोई मारपीट नहीं की है।
– चार्ट अपलोड, नहीं खोल पाए कॉलेज: यूजी तीसरे सेमेस्टर के रिजल्ट में देरी होने से 5 हजार छात्र 23 अक्टूबर तक फीस जमा नहीं कर पाए। रिजल्ट जेयू के पोर्टल पर जारी कर दिया है। लेकिन कई कॉलेज इसे नहीं खोल पाए। गुरुवार को वोटर लिस्ट जारी करने में समस्या हो सकती है।