छत्तीसगढ़ के पहले सस्पेंशन ब्रिज लक्ष्मण झूला का लोकार्पण आज

रायपुर। छत्तीसगढ़ के पहले सस्पेंशन ब्रिज लक्ष्मण झूला का लोकार्पण राजधानी रायपुर में गुरुवार शाम को मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंहकरेंगे। रायपुर में प्रसिद्ध महादेव घाट पर खारून नदी के तट पर लक्ष्मण झूला बनाया गया है। सीएम डाॅ. सिंह ब्रिज के साथ ही उद्यान का उद्घाटन करेंगे। इसके साथ ही नदी तट पर सौंदर्यीकरण समेत उद्यान, व्यायाम स्थल, बच्चों के लिए खेल आंगन का भी लोकार्पण करेंगे।

शाम 5 बजे से होने वाले इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल करेंगे। इस दौरान सांसद रमेश बैस, मंत्री अमर अग्रवाल, मंत्री राजेश मूणत, खाद्य मंत्री पुन्नूलाल मोहले समेत शहर के गणमान्य लोग मौजूद रहेंगे।

– शहर के साथ ही प्रदेश के भी प्रमुख स्थलों में शुमार हो चुके महादेव घाट पर किया गया सौंदर्यीकरण खास आकर्षण का केंद्र हैं। धार्मिक आस्था लेकर महादेव मंदिर आने वाले लोग लंबे समय से इसे बेहतर बनाने की मांग कर रहे थे।

– वहीं नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल यानि एनजीटी की फटकार के बाद राज्य सरकार ने मिशन क्लीन खारून योजना को भी हरी झंडी दे दी है। इसमें खारून नदी में गिरने वाले 17 गंदे नालों के पानी को साफ किया जाएगा। इसके लिए 261 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। प्रोजेक्ट के तहत चंदनीडीह, कारा और निमोरा में उच्च क्षमता के 3 सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाए जाएंगे।

छह करोड़ की लागत से बनाया गया है पुल

– करीब छह करोड़ रुपए की लागत से इस सस्पेंशन ब्रिज को बनाया गया है। जिस पर चलते हुए झूले में चलने का अहसास होगा। नदी के किनारे गार्डन बनाया गया है। पुल से उतर कर लोग सीधे गार्डन में प्रवेश कर सकेंगे। ये लक्ष्मण झूला सिर्फ रायपुर ही नहीं, दुर्ग जिले के लोगों के लिए भी आकर्षण का केंद्र बनेगा।खारून नदी के उस पार दुर्ग जिला शुरू हो जाता है।

– सस्पेंशन ब्रिज के अलावा बैटरी चलित वाहन, कैसकेट थियेटर भी होगा। बच्चों के लिए माड्यूलर एडवेंचर झूले का मजा, बुजुर्गों और दिव्यांगजनों के लिए विशेष तौर पर गोल्फ कार्ट की व्यवस्था रहेगी। गार्डन में ढाई सौ प्रजाति के पौधे लगाए जा रहे हैं। शाम के समय सस्पेंशन ब्रिज में लगी LED लाइट से अलग ही नजारा दिखाई देता है।

महादेव घाट रिवर फ्रंट पर एक किलोमीटर लंबा गार्डन
– महादेव घाट पर दुर्ग जिले के हिस्से में रिवर फ्रंट पर एक किलोमीटर लंबा उद्यान भी बनाया गया है। इसका भी लोकार्पण आज होना है। उद्यान में पेडस्ट्रियन ट्रैक, एक्यूप्रेशर ट्रैक और गोल्फकार्ट ट्रैक बनाए गए हैं।

– बच्चों के लिए झूले, कैफेटेरिया, एक्सरसाइज और योगाभ्यास के लिए अलग-अलग ट्रैक, कैलाश गुफा, मुक्ताकाश, झरने और फव्वारे का भी निर्माण किया गया है। यहां कई प्रजातियों के फूल-पौधे भी हैं, जो बरबस लोगों को आकर्षित कर लेते हैं. उद्यान में चारों तरफ हरियाली ही हरियाली है।