छेड़छाड़ के मामले में भोपाल सबसे आगे, आलीराजपुर ज्यादा महफूज

महिलाओं पर फब्तियां कसने,उनकी अकारण पीछा करने और फोन पर अश्लील बातें करने जैसे मामलों में राजधानी बदनाम हो रही है। इसका नमूना पीड़ित महिलाओं द्वारा मदद के लिए महिला हेल्प लाइन पर दर्ज कराई शिकायतों से मिला है।

तीन साल पहले शुरू की गई इस सेवा में दर्ज रिपोर्ट के अनुसार राजधानी में महिलाओं को सबसे अधिक सताया जाता है। दूसरा नंबर जबलपुर का है। तीसरे नंबर पर इंदौर है,जबकि प्रदेश में इस तरह के सबसे कम केस अलीराजपुर में होते हैं।

दिल्ली में हुए निर्भया कांड के बाद सरकार ने महिलाओं की हिफाजत के लिए मप्र में राज्य स्तरीय महिला हेल्प लाइन(1090) शुरू की है। 24 घंटे जारी रहने वाली इस सेवा में पीड़ित पक्ष टोल फ्री नंबर 1090 पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। शिकायत मिलते ही हेल्प लाइन द्वारा संबंधित इलाके के वरिष्ठ अफसरों और स्थानीय थाने को घटना की सूचना दी जाती है। इसके साथ ही केस की मॉनीटरिंग भी शुरू कर दी जाती है। हेल्प लाइन की मदद से अभी तक कई गंभीर केस दर्ज किए गए हैं।

इसमें घटना की सूचना देने वाले का नाम गोपनीय रखा जाता है। महिला हेल्प लाइन प्रभारी सुनीता कार्नेलियस बताती हैं,कि अधिकांश महिलाएं छेड़छाड़ जैसे मामले में मनचलों को सबक तो सिखाना चाहती हैं। लेकिन उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने से कतराती हैं। इससे भी आरोपियों के हौंसले बुलंद होते हैं। जागरुकता बढ़ने के कारण अब महिलाएं घटना की तुरंत शिकायत दर्ज कराने लगी हैं।

पिता कर रहा था अपनी दो बेटियों से ज्यादती

केस-1 : हबीबगंज के 12 नंबर इलाके में रहने वाले एक व्यक्ति की पत्नी की मौत हो चुकी थी। उसके 5 बच्चे हैं। उनमें से वह अपनी 13 और 10 साल की बच्चियों के साथ ज्यादती करने लगा था। पड़ोसियों ने इस बात की शिकायत हेल्प लाइन में की 17 अगस्त 2017 को की। इस मामले में हबीबगंज पुलिस ने आरोपी पिता को दुष्कर्म के केस में गिरफ्तार कर लिया।

केस-2 : सीहोर के कोतवाली क्षेत्र में एक स्कूल का शिक्षक छात्राओं के साथ अश्लील हरकत करता था। एक 13 साल की बच्ची ने घटना की शिकायत परिजनों से की। 11 सितंबर-17 को उन्होंने हेल्पलाइन की मदद ली। इस मामले में पुलिस ने अगले दिन आरोपी शिक्षक अखिलेश के खिलाफ छेड़छाड़ और पोक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया।

राज्य स्तरीय महिला हेल्प लाइन में अभी तक दर्ज शिकायतें

01 जनवरी 2013 से राज्य स्तरीय महिला हेल्प लाइन(1090) की शुरूआत की गई है। इसमें अभी तक 99,650 शिकायतें दर्ज हुई हैं। इनमें से 3,398 मामलों में विभिन्न थानों में एफआईआर दर्ज की गई है।

प्रमुख शहर – शिकायत

भोपाल – 27,235

जबलपुर – 12,500

इंदौर – 9,835

रीवा – 8,665

ग्वालियर – 5,776

अलीराजपुर – 116

महिलाओं में जागरुकता बढ़ी

महिलाओं में उनके लिए बने कानूनों के प्रति जागरुकता बढ़ी है। एजूकेशन हब बन चुकी राजधानी में छात्राओं की संख्या बढ़ गई है। इसके अलावा आजकल सहनशीलता कम होने से भी महिलाएं मामूली गलती पर भी संबंधित व्यक्ति को सबक सिखाने के लिए उसकी पुलिस में शिकायत दर्ज करा देती हैं। इस वजह से राजधानी में महिला अपराध की शिकायतें लगातार बढ़ रही हैं। रीता तुली, सीनियर काउंसलर, आधारशिला परिवार परामर्श केंद्र

नोट:- अभी तक के आंकड़े राज्य स्तरीय महिला हेल्प लाइन से लिए गए हैं।