जंगल में बिखरी पड़ी थी नेताओं की लाशें, नक्सलियों ने ऐसे किया था हमला

रायपुर। देश की हिस्ट्री में कभी न भूलने वाला दिन था झीरम घाटी में हुआ नक्सली हमला, जिसमें 25 से ज्यादा कांग्रेसी नेताओं की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। चारों तरफ बिखरी पड़ी थी लाशें…
26 मई 2013 को कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा के दौरान नेताओं का काफिला जब दरभा पहुंचा। तब नक्सलियों ने काफिलें पर हमला कर दिया।
– पहले नक्सलियों धमाका करके काफिला रोका फिर अंधाधुध फायरिंग करना शुरू कर दिया। धमाके से 10 फीट का गड्ढा हो गया जिससे काफिला आगे नही जा सकता था।
– इस घटना में पूर्व केन्द्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल, तत्कालीन पीसीसी चीफ नंदकुमार पटेल, बस्तर टाइगर महेंद्र कर्मा, उदय मुदलियार समेत 30 से ज्यादा कांग्रेसियों की मौत हो गई थी।
हमले के बाद दब गई थी बस्तर टाइगर की दहाड़
– हमले का टारगेट थे बस्तर के टाइगर महेंद्र कर्मा। जिन्हें नक्सली अपना सबसे बड़ा दुश्मन मानते थे। गोलियों के अलावा उनके शरीर में चाकू गोदने के कई निशान थे।
– हत्या के बाद नक्सलियों ने उनकी बॉडी पर चढ़कर डांस भी किया था। नक्सलियों ने कई कार्यकर्ताओं की आंखों में गोली चलाई थी।