जब तक खुलता डायरी का राज, पत्नी और बेटी का murder करके दे दी जान

भोपाल। होशंगाबाद के चंदननगर में मातमी पसरा हुआ है। गुरुवार सुबह जब एक ही फैमिली के तीन लोगों की अर्थियां श्मशान के लिए उठीं, तो कठोर दिल भी पिघल गए। उल्लेखनीय है कि बुधवार सुबह 40 वर्षीय संजय फसाटे ने अपनी पत्नी और बेटी का मर्डर करने के बाद खुद सुसाइड कर लिया था। बेटी ने चार दिन पहले ही अपना जन्मदिन मनाया था। पढ़ें पूरा मामला…
यह है पूरा मामला…
-संजय फसाटे अपनी पत्नी प्रीति (40) और बेटी सिम्मी (12) के साथ चंदन नगर फेस-2 स्थित दो मंजिला मकान के ऊपरी फ्लोर पर रहता था। नीचे उसके पिता केआर फसाटे और मां रहती हैं। पिता सिक्युरिटी पेपर मिल से असिस्टेंट मैनेजर की पोस्ट से रिटायर्ड हुए हैं।
-पुलिस के अनुसार, संजय ने अपनी पत्नी और बेटी का किसी लोहे की रॉड से मर्डर करने के बाद खुद फांसी लगा ली। घटना बुधवार तड़के की है।
बेटी की डायरी ने खोले राज
माय फादर स्लेप्ड मी एंड फाइटिंग विथ मोम। पिता के हाथों मौत से पहले सिम्मी ने यह बात अपनी पर्सनल डायरी में लिखी। 10 साल की मासूम का दर्द पढ़कर या सुनकर हर कोई स्तब्ध रह गया। चंदन नगर सहित पूरा शहर बुधवार को घटनाक्रम से हैरान था। मासूम बेटी सिम्मी और पत्नी प्रीति की निर्मम हत्या कर एसपीएम के स्टोर कीपर संजय फसाटे का फांसी पर लटकना एक बड़ी पहेली बन गया है। संजय की बेटी सिम्मी पापा और मम्मी के बिगड़े रिश्तों की कहानी डायरी में लिखती रही। रिश्ते सुधरे नहीं, बुधवार को खत्म ही हो गए। बेटी के जन्मदिन की खुशियों के चार दिन बाद ही फसाटे परिवार में मातम पसर गया।
सरवाइट स्कूल की स्टूडेंट थी सिम्मी
सिम्मी सरवाइट स्कूल में 6 की स्टूडेंट थी। वह होनहार और दादा-दादी की लाडली थी। सिम्मी डेली पर्सनल डायरी मेंटेन करती थी। दिन का हर वाक्या उसमें लिखती थी। आखिरी बार लिखे उसके शब्दों से मम्मी-पापा के बीच की खटास का जिक्र होता है। पुलिस डायरी की जांच कर रही है। प्रीति पवारखेड़ा स्थित आईपीएस में टीचर थी। स्कूल में प्रीति की गतिविधि का भी पता लगा रही है।
कमरे से चार मोबाइल जब्त, मिल सकता है सुराग
ऊपरी मंजिल स्थित कमरे से पुलिस को चार मोबाइल मिले हैं। इनकी कॉल डिटेल और डाटा से कुछ सुराग मिल सकता है। पुलिस के लिए मोबाइल ही अहम क्लू देंगे। संजय का बेटा मणि बुरहानपुर के बोर्डिंग स्कूल में 12वीं का छात्र है। वह मम्मी-पापा और बहन की मौत से सदमे में है।
इन वजह पर पुलिस को शक
मायके जाने की जिद:प्रीति के भाई के घर मंगलवार को डिलेवरी हुई थी। बच्चा शांत हो गया। प्रीति मायके जाना चाहती थी। पुलिस को संदेह है कि उसकी इस जिद को लेकर दोनों में झगड़ा हुआ होगा और बात बढ़ गई होगी।
आर्थिक कारण हो सकती है वजह: पुलिस मामले को आर्थिक कारणों से जोड़ रही है। संजय के पास बहुत पैसा होने की चर्चा है। यह राशि किसी बिजनेस में लगाने की बात भी हो रही है। जमीन के धंधे में राशि फंसने की भी आशंका है। कुछ लोगों को ब्याज पर रािश देने की भी चर्चा है। हालांकि इस बारे में परिजन कुछ भी नहीं बोल रहे हैं।
हथियार मिला नहीं, सल्फास की शीशी मिली: एसडीओपी एसएन चौधरी, टीआई देवेंद्र सिंह के मुताबिक हत्या में लाेहे के भारी हथियार का उपयोग उपयोग किया गया है। अब तक नहीं मिला है। बैडरूम से सल्फास की गोलियों से भरी शीशी मिली है। हो सकता है संजय ने पत्नी और बेटी को सल्फास खिलाई हो और हत्याकर फांसी पर लटक गया हो।
ऊपरी मंजिल पर तीन दरवाजे, तीनों अंदर से लॉक: ऊपरी तल स्थित बेडरूम में 3 दरवाजे हैं। पहला सीढ़ियों से बेडरूम में घुसने का मुख्य द्वार, दूसरा बरामदे में आने और तीसरा छत पर जाने का। तीनों अंदर से लॉक थे। लोगों का कहना है मां-बेटी की हत्या कर संजय को किसी ने फांसी पर लटका दिया हो। क्योंकि गेट के ऊपर लगी रेलिंग के फंदे से लटके संजय के घुटने जमीन से थोड़े ही ऊपर थे।

Leave a Reply