जोधपुर डिस्कॉम एमडी पद के लिए लॉबिंग, कतार में डायरेक्टर से चीफ इंजीनियर तक

जयपुर। जोधपुर डिस्कॉम के प्रबंध निदेशक (एमडी) आईएएस आरती डोगरा के तबादले के बाद अब नए एमडी की नियुक्ति के लिए लॉबिंग होने लगी है। भरती इस पद पर पिछले तीन साल से थीं। डिस्कॉम एमडी बनने के लिए दूसरी बिजली कंपनियों के डायरेक्टर व चीफ इंजीनियर कतार में लगे हैं। वहीं डायरेक्टर (टेक्निकल) बनने के लिए चीफ इंजीनियर्स ने भी सिफारिश शुरू कर दी है। हालांकि ऊर्जा विभाग ने प्रदेश से बाहर के बिजली संस्थानों के बड़े इंजीनियर्स का भी विकल्प खुला रखा है।

– जोधपुर डिस्कॉम में फिलहाल कार्यवाहक एमडी के तौर पर डायरेक्टर (टेक्निकल) बीएस रत्नू काम कर रहे हैं। एमडी पोस्ट की कतार में दो डायरेक्टर व दो चीफ इंजीनियर हैं।

– वहीं जयपुर डिस्कॉम के चीफ इंजीनियर (हैडक्वार्टर) एसके माथुर भी डायरेक्टर अजमेर या जोधपुर बनने की कतार में हैं। हालांकि एक मामले में चार्जशीट के बाद प्रमोशन का लिफाफा बंद होने के कारण माथुर का सीई पोस्ट पर प्रमोट नहीं हो पाए हैं। वे अभी एडिशनल चीफ इंजीनियर ही हैं।

तीनों कंपनियों में छीजत 19.89 फीसदी
– प्रदेश की तीनों बिजली वितरण कंपनियों में बिजली की छीजत 19.89 फीसदी है। पहले यह 23.37 थी। इसमें जोधपुर डिस्कॉम की छीजत 19.28 फीसदी है। पिछली साल यह 21.54 थी।

तीनों डिस्कॉम घाटे में

– इस साल का तीनों डिस्कॉम का घाटा 2694 करोड़ है। इसमें से जोधपुर डिस्कॉम का 1490 करोड़ रुपए था।

– केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय की उदय (उज्ज्वल डिस्कॉम एश्योरेंस योजना) योजना में कठिन शर्तों के कारण 2018 तक बिजली कंपनियों का कायाकल्प करना जरूरी है। शर्तें पूरी नहीं करने पर घाटे से जूझ रही बिजली कंपनियों के लिए दिक्कत हो सकती है। ऐसे में सरकार बिजली कंपनियों में तेज तर्रार एमडी लगाना चाहती है ताकि बिजली छीजत व सिस्टम को सुधारते हुए घाटे को कम कर सके।

– ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव संजय मल्होत्रा का कहना है कि जल्दी ही एमडी की नियुक्ति की जाएगी। इसके लिए चयन प्रक्रिया होगी।

जोधपुर डिस्कॉम के एमडी की कतार में
– जोधपुर डिस्कॉम चीफ इंजीनियर (जोधपुर जोन) : अविनाश सिंघवी
– अजमेर डिस्कॉम के डायरेक्टर (टेक्निकल) : केपी वर्मा
– अजमेर डिस्कॉम चीफ इंजीनियर (प्रोजेक्ट) : वीएस भाटी
– जोधपुर डिस्कॉम डायरेक्टर (टेक्निकल) बीएस रत्नू