ट्रिपल तलाक पर अब तक की सबसे बड़ी खबर , संसद में कल पेश हो सकता हे बिल….

ट्र‌िपल तलाक मामले में कल संसद में बिल पेश हो सकता है। संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने बताया कि तीन तलाक पर बिल को संसद में कल पेश किया जायेगा। आपको बता दें कि मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक को पिछले हफ्ते ही कैबिनेट में मंजूरी दी थी।एक बार में तीन तलाक को संज्ञेय और गैर जमानती अपराध बनाने के लिए केंद्र सरकार गुरुवार को लोकसभा में विधेयक पेश करने जा रही है।भाजपा सरकार ने इस बिल को पास कराने के लिए पूरी तैयारी कर ली है।

इसके लिए भाजपा ने अपने सभी सांसदों को इस मौके पर संसद में ही मौजूद रहने को भी कहा है। बता दें कि ट्र‌िपल तलाक विधेयक का मसौदा तैयार करने से पहले मुस्लिम संगठनों से राय नहीं ली गई थी। सरकार ने लोकसभा में यह जानकारी दी।प्रस्तावित विधेयक में एक बार में तीन तलाक देने वाले पति को तीन साल तक की कैद और जुर्माने का प्रावधान है। यह कानून जम्मू-कश्मीर को छोड़कर पूरे देश में लागू होगा।सरकार से पूछा गया था कि तीन तलाक पर मसौदा कानून तैयार करने से पहले सरकार ने मुस्लिम संगठनों से सलाह ली थी या नहीं। इस सवाल पर विधि राज्य मंत्री पी. पी. चौधरी ने अपने लिखित जवाब में कहा कि नहीं। सरकार का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद तुरंत तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) चलन में बना हुआ है, जिसके लिए कानून लाए जाने की आवश्यकता है।

ऐसा होगा नया कानून :

तीन तलाक पर प्रस्तावित कानून का नाम मुस्लिम वुमेन प्रोटेक्शन आफ राइटस आन मैरिज होगा

– यह कानून सिर्फ एक साथ एक बार में तीन तलाक यानी तलाक ए बिद्दत के मामलों में ही लागू होगा

– अगर कोई पति अपनी पत्नी को एक बार में तीन तलाक देता है तो वह गैर कानूनी होगा

– एक बार में तीन तलाक हर रूप में गैरकानूनी होगा चाहे वो लिखित हो, बोला गया हो या फिर इलेक्ट्रॉनिक रूप में हो

– जो भी व्यक्ति अपनी पत्नी को एक बार में तीन तलाक देगा उसे तीन साल तक की कैद और जुर्माने की सजा होगी – अपराध संज्ञेय और गैर जमानती होगा। मुकदमे का क्षेत्राधिकार मजिस्ट्रेट की अदालत होगी