दीवाली के 40 दिन बाद बता रहे मिठाईया थी अमानक :

रायपुर 😐 राज्य खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग के खाद्य सुरक्षा अधिकारियों (एफएसओ) ने दशहरा और दीवाली पर प्रदेशभर के होटलों से मिठाइयां और रेस्टोरेंट से खाद्य सामग्री के सैंपल लिए। इनकी रिपोर्ट आने में डेढ़ से दो महीने लग गए।अब जो रिपोर्ट सामने आई है, वह यह है की  253 सैंपल में 76 सैंपल फेल हो गए। ये अमानक (सबस्टैंडर्ड) और  (मिसब्रांड) पाए गए हैं। अमानक की सीधी परिभाषा है कि खाद्य पदार्थ खाने योग्य नहीं है। ऐसे में बड़ा सवाल यह है की अब इतनी लेटलतीफी से रिपोर्ट आने का फायदा क्या |क्योकि जनता तो अमानक मिठाई खा चुकी | और अगर कोर्ट में केस लगता भी है तो दुकानदार को अमानक पर 5 लाख का जुर्माना ही होगा