दुधमुंहे से छिना मां का दूध, अमरीका में फंसा जयपुर का दंपती

जयपुर.  मां, जिसे धरती पर परमेश्वर का स्वरूप माना गया है। बलिदान की प्रतिमूर्ति और बच्चे को इंसानियत का पहला पाठ पढ़ाने वाली मां से अगर उसके दुधमुंहे बच्चे को दूर कर दिया जाए तो उसके लिए दुनिया दोजख बन जाती है। कुछ ऐसे ही दर्द से गुजर रहा है सिरसी रोड स्थित एक दंपती व उसका परिवार, जिसे अमरीकी कानून ने उसके आंखों के नूर से दूर कर दिया है।
कसूर भी सिर्फ इतना कि शिशु रोग विशेषज्ञ के पास ले जाने के लिए तैयार होते समय बच्चा मां की गोद से गिर गया और सिर पर चोट आ गई। सात दिन आईसीयू में इलाज के बाद शिशु स्वस्थ हो गया, लेकिन वहां के कानून ने माता-पिता पर शेकिंग बेबी सिंड्रोम धारा लगा दी।
सिरसी रोड निवासी अभिषेक पारीक ने बताया कि उनका छोटा भाई आशीष पारीक टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) में प्रोजेक्ट मैनेजर है। वह 10 अगस्त 2015 को गर्भवती पत्नी के साथ न्यू जर्सी (अमरीका) गया था।
वहां उसकी पत्नी विदिशा ने गत 21 अक्टूबर को पुत्र को जन्म दिया, जिसका नाम अश्विद रखा गया। बच्चे के गोद से गिरने के बाद वहां का कानून एेसा आड़े आया कि दस दिनों से उसे मां का दूध भी नसीब हुआ और मां को कुछ देर के लिए ही मिलने दिया जा रहा है। वहीं यहां अन्य परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

Leave a Reply