नक्सलियों के गढ़ में चार घंटे से ज्यादा वक्त बिताएंगे पीएम, बीजापुर का कार्यक्रम जांगला में शिफ्ट

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सली गढ़ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 अप्रैल को पहुंच रहे हैं। वो करीब 4.30 घंटे वहां रहेंगे। इस दौरान नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले के जांगला में मोदी जहां एक जनसभा को संबोधित करेंगे, वहीं देश को आयुष्मान भारत योजना भी समर्पित करेंगे। पीएम मोदी के कार्यक्रम को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

योजनाओं का करेंगे शुभारंभ

– जांगला में पीएम मोदी जनसभा को संबोधित करेंगे और आयुष्मान भारत योजना का शुभारंभ करेंगे।
– इसके बाद पीएम जांगला से ही बीजापुर जिला अस्पताल की डायलिसिस यूनिट का शुभारंभ कर सकते हैं।
– रेलमार्ग का लोकार्पण, वनधन विकास केंद्र का शिलान्यास जैसी कई सौगातें पीएम की ओर से बस्तर की जनता को मिलेंगी।

दो नेशनल प्लेयर से भी मिलेंगे पीएम

– बीजापुर की नेशनल सॉफ्टबॉल खिलाड़ी सुनीता हेमला और अरुणा पुनेम से भी प्रधानमंत्री जांगला में मुलाकात करेंगे। इसको लेकर दोनों खिलाड़ियों में काफी उत्साह है।

– ये दोनों खिलाड़ी पहले तेंदू पत्ता और महुआ बीन जो जून की रोटी जुटाती थीं। अब ये फिलिपिंस में 12 से 18 मई तक होने वाले टूर्नामेंट में हिस्सा लेंगी।

ऐसा होगा पीएम का कार्यक्रम

– पीएम मोदी की व्यस्तताओं और दिल्ली में 14 अप्रैल को ही होने वाले कार्यक्रम को देखते हुए उनके छत्तीसगढ़ दौरे में थोड़ा संशोधन किया गया है।
– अब मोदी शनिवार सुबह 11.30 बजे नई दिल्ली से विमान से सीधे जगदलपुर पहुंचेंगे। इसके बाद हेलिकॉप्टर से बीजापुर के जांगला जाएंगे।
– जांगला में कार्यक्रम ख़त्म होने के बाद पीएम शाम करीब 4 बजे जगदलपुर, और वहीं से विमान से दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे।
-इसके पूर्व पीएमओ की ओर से प्रधानमंत्री के रायपुर उतरने के बाद जांगला और बीजापुर जाने का कार्यक्रम बताया गया था।
-सूत्रों ने बताया कि अब बीजापुर का कार्यक्रम जांगला में ही शिफ्ट कर दिया गया है। हालांकि, प्रधानमंत्री के संशोधित कार्यक्रम के बारे में विस्तृत जानकारी देने से अधिकारियों ने मना कर दिया है।

बीजापुर आने वाले दूसरे प्रधानमंत्री

– पीएम मोदी नक्सल प्रभावित बीजापुर आने वाले दूसरे प्रधानमंत्री हैं। इसके पूर्व तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी वर्ष 1975 में बीजापुर आईं थीं।
– हालांकि तब वहां के हालात आज की तरह नहीं थे। उस समय पीएम इंदिरा गांधी ने सभा में आए ग्रामीणों से मुलाकात कर उन्हें चॉकलेट भी दी थी।
– इंदिरा गांधी बीजापुर स्थित बांसागार और सागौन डिपो का उद्घाटन करने के लिए आई थीं। उस दौरान बीजापुर को कोई सौगात नहीं मिली थी, लेकिन यहां पहुंच रहे मोदी से लोगों को काफी उम्मीदें हैं।

दुल्हन की तरह सजा जांगला

– पीएम मोदी के आगमन को देखते हुए जांगला को दुल्हन की तरह सजाया गया है। दो किलोमीटर सड़क से लेकर कार्यक्रम स्थल तक फ्लैक्स, होर्डिंग्स और रंग-बिरंगे तोरणद्वार ही नजर आ रहे हैं।
-दीवारों पर बस्तर आर्ट की झलक दिख रही है तो पेड़-पौधों को रंगीन कपड़ों और रोशनी से सजाया गया है।
– पीएम मोदी का स्वागत बीजापुर के कोसा से बने गमछे से किया जाएगा। इसे यहीं के कोकून उत्पादन केंद्र के कोसे से तैयार किया गया है।
– शुद्ध देशी शहद उत्पादन के लिए प्रसिद्ध जांगला के वनवासियों की ओर से तैयार शहद का स्वाद भी पीएम चखेंगे।

सुरक्षा को लेकर कड़े इंतजाम

– पीएम मोदी के छत्तीसगढ़ दौरे को देखते हुए सुरक्षा-व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए गए हैं। सुरक्षा में 16 हजार से अधिक जवान लगे हैं और जांगला छावनी में तब्दील कर दिया गया है।
– आला अधिकारियों ने भी बस्तर डेरा डाल लिया है। प्रदेश के 12 आईएएस और 24 आईपीएस वहां पांच दिनों से मौजूद हैं। वहां आईबी, सीआरपीएफ और एंटी नक्सल ऑपरेशन के अधिकारी भी पहुंच चुके हैं।
-कार्यक्रम की मॉनिटरिंग के लिए पीएचक्यू में कंट्रोल रूम बनाया गया है। विशेष कमांडों दस्ते के साथ एसपीजी की टीम बस्तर पहुंच गई है।