नमस्ते नहीं ‘शिक्षित नागरिक’ कहते हैं, जवाब होता है ‘विकसित भारत’

डिंडौरी के कांग्रेस विधायक ओमकार सिंह मरकाम इन दिनों अपने मित्रों के बीच चर्चा में हैं। हों भी क्यों न क्योंकि वे मुलाकात के दौरान हाथ मिलाते समय नमस्ते, गुड मॉर्निंग या इवनिंग नहीं कहते, बल्कि ‘शिक्षित नागरिक’ संबोधन से स्वागत करते हैं। सामने वाला भी उन्हें ‘विकसित भारत’ कहकर अभिवादन करता है।

मरकाम देशभर में एक समान शिक्षा को लेकर ‘शिक्षा की समानता आंदोलन’ चला रहे हैं। इसकी शुरुआत तीन दिन पहले उन्होंने डिंडौरी और आसपास के जिलों से की है। आंदोलन के तहत उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भी लिखा है, जिसमें पहली से दसवीं कक्षा तक एक समान शिक्षा लागू करने की मांग की गई है। मरकाम ने कहा कि पाठ्यक्रम एक जैसा हो, लेकिन क्षेत्रीय भाषाओं में हो, जिससे सभी पढ़-लिख सकें।

विधायक मरकाम गुरुवार को भोपाल पहुंचे हैं और अपने आंदोलन के प्रचार प्रसार के लिए खुद ही पेंफ्लेट साथ लेकर चल रहे हैं। जिस दफ्तर में भी वे जाते हैं, वहां पेंफ्लेट वितरित कर अपनी बात रखते हैं। मरकाम ने नवदुनिया को बताया कि आंदोलन से लोगों को जोड़ने के लिए उन्होंने अलग से मोबाइल नंबर भी 76111-38818 दिया है। साथ ही आंदोलन का ‘शिक्षा की समानता’ नाम से फेसबुक पेज भी तैयार किया। वे दावा करते हैं कि उनका यह आंदोलन पूरी तरह से गैर राजनीतिक है।