नर्मदा नदी से रेत खनन पर लगा प्रतिबंध हटा, रेट की कीमत काम होने के आसार…|

इंदौर: छह महीने पहले नर्मदा नदी से रेत खनन पर लगी रोक हटा ली गई है। दो दिन पहले खनिज विभाग ने इसके लिए आदेश जारी किए हैं। इससे मालवा-निमाड़ के इलाकों में रेत की कीमतों में कमी आने के आसार दिख रहे है। नर्मदा से रेत खनन पर रोक लगने के बाद रेत के भाव लगभग दो गुने हो गए थे।
20 दिसंबर के बाद खदानों से फिर रेत खनन शुरू हो जाएगा। इस अवधि में खदानों के नाम परिवर्तन कर संबंधित पंचायतों के नाम जोड़े जाएंगे। खदानों में रेत की उपलब्धता की जांच भी होगी। साथ साथ संभंदित पंचायतो से भी मंजूरी लेना होगी
नर्मदा तट पर होंशगाबाद, रायसेन, हरदा, सिहोर, रायसेन, आलीराजपुर, मंडला, सिवनी सहित 84 इलाकों में रेत के बड़े भंडार है, जो अब नए सिरे से पंचायतों को सौंप दिए जाएंगे। …

सस्ती होगी रेत

नर्मदा तट से खनन पर प्रतिबंध लगने से रेत के दाम दोगुने हो गए थे। रेत कारोबारियों के मुताबिक 45 रुपए फीट की रेत 90 से 100 रुपए फीट तक हो गई थी। अभी रेत के भाव 60 रुपए फीट तक है। छह महीने से इंदौर तक होशंगाबाद से रेत की खेप आ रही है।