नवाज शरीफ को अपनी पार्टी के अध्यक्छ पद से इस कारन धोना पढ़ सकता है हाथ

पाकिस्तान की सीनेट ने सार्वजनिक पद से अयोग्य करार दिए गए किसी व्यक्ति के पार्टी अध्यक्ष बने रहने के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित किया. यह कदम पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के पुन: पीएमएल-एन का अध्यक्ष चुने जाने के खिलाफ केंद्रित है. सीनेट में विपक्ष के नेता एतजाज अहसन के प्रस्ताव में कहा गया कि कोई व्यक्ति जो संसद का सदस्य बनने के योग्य नहीं है या अयोग्य करार दिया जा चुका है, वह किसी राजनीतिक दल का नेतृत्व नहीं कर सकता. संसद के उच्च सदन ने प्रस्ताव को 28 के मुकाबले से 52 वोटों से पारित किया. गौरतलब है कि पनामा पेपर्स मामले में प्रधानमंत्री पद छोड़ने को मजबूर हुए शरीफ को पिछले दिनों सत्तारूढ़ पीएमएल-एन का अध्यक्ष पुनर्निर्वाचित किया गया गया था. बढ़ेगी नवाज शरीफ की मुसीबत
पाकिस्तान की भ्रष्टाचार निरोधक टीम पद से हटाए गए प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके परिवार द्वरा जुटाई गई संपत्ति में ‘‘महत्वपूर्ण गवाहों’’ और साक्ष्यों को जुटाने के लिए लंदन जाएगी. पनामा पेपर्स कांड में सुप्रीम कोर्ट द्वारा 28 जुलाई को अयोग्य करार दिए जाने के बाद शरीफ को प्रधानमंत्री पद से हटना पड़ा था. वह सत्तारूढ़ पीएमएल-एन के अध्यक्ष पद से भी हट गए थे. नेशनल एकाउंटेबिलिटी ब्यूरो (एनएबी) के एक अधिकारी ने बताया कि वह अपनी संयुक्त जांच टीम (सीआईटी) को कुछ दिनों में लंदन भेजेंगे ताकि शरीफ और उनके बच्चों — मरियम, हसन और हुसैन की संपत्ति के बारे में कुछ ‘‘महत्वपूर्ण गवाहों’’ के बयान दर्ज किए जा सकें. …तो कारगिल युद्ध में मारे जाते मुशर्रफ और नवाज शरीफ! इससे पहले पाकिस्तान की भ्रष्टाचार रोधी अदालत ने अपदस्थ पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी और दामाद को पनामा पेपर्स घोटाले में सोमवार (9 अक्टूबर) को जमानत दे दी जहां वे लंदन से लौटने के बाद पेश हुए थे.