नासा के 12 नए अंतरिक्ष यात्रियों में एक भारतीय-अमेरिकी शामिल

ह्यूस्टन : नासा ने रिकॉर्ड 18,000 से ज्यादा आवेदकों में से एक भारतीय-अमेरिकी सहित 12 नए अंतरिक्ष यात्रियों का चयन किया है जिन्हें पृथ्वी की कक्षा और सुदूर अंतरिक्ष में अभियानों के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा. इस समूह में सात पुरुष और पांच महिलाएं हैं. नासा का यह पिछले दो दशकों में सबसे बड़ा चयनित समूह है.
इन लोगों को चयन रिकॉर्ड 18,300 आवेदकों में से किया गया है. नासा को किसी खुले अंतरिक्ष यात्री निमंत्रण के दौरान पहले कभी इतने आवेदन नहीं मिले.
अंतरिक्ष यात्री के तौर पर चुने जाने के लिए उम्मीदवारों को कुछ शारीरिक अनिवार्यताओं के साथ ही शिक्षा और अनुभव संबंधी मापदंडों को पूरा करना था जैसे कि उनके पास विज्ञान, तकनीक, इंजीनियरिंग और गणित (स्टेम) में स्नातक की डिग्री या जेट विमान को उड़ाने का 1,000 घंटों का अनुभव होना चाहिए.
चुने गए अंतरिक्ष यात्रियों को दो साल का प्रशिक्षण दिया जाएगा. प्रशिक्षण खत्म होने के बाद उन्हें अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में मिशन के दौरान अनुसंधान का काम सौंपा जा सकता है. अमेरिका के उप राष्ट्रपति माइक पेंस ने नासा अधिकारियों के साथ मिलकर चयनित अंतरिक्ष यात्रियों की घोषणा ह्यूस्टन में की. पेंस ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अंतरिक्ष में नासा के मिशन के प्रति ‘दृढ़ता से प्रतिबद्ध’ हैं और ‘अमेरिका फिर से अंतरिक्ष में नेतृत्व करेगा’.