नीतीश बोले- मोदी का मुकाबला करने की क्षमता किसी में नहीं, 2019 में भी बनेंगे पीएम

बिहार में भाजपा के साथ सरकार बनाने के बाद पहली बार सीएम नीतीश कुमार ने आरजेडी के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि हमारा जो काम करने का तरीका है उससे समझौता नहीं कर सकते थे। नीतीश ने कहा कि ‘मेरे पास महागठबंधन तोड़ने के आलावा कोई विकल्प नहीं था।’

छापों को लेकर मेरी लालू जी से कई बार बात हुई। मैंने आरोपों पर ध्यान नहीं दिया हर आरोप बर्दाश्त किए मुझे जहर तक कहा गया। लालू को भ्रष्टाचार के आरोपों पर तथ्यों के साथ सफाई देने के लिए कहा लेकिन वह नहीं माने। उनके इन आरोपों को लेकर मुझपर सवाल उठ रहे थे। मुझे लालू परिवार की संपत्ति की जानकारी नहीं थी।

महागठबंधन चलाने में कई परेशानियां आई। सरकार ने पूरी कोशिश की। आरजेडी ने बहुत कुछ कहा है। मैंने ज्यादातर टिप्‍प्‍णियों पर ध्यान नहीं ‌दिया। लोकतंत्र का चौथा स्तंभ मीडिया में आने वाली बातों पर गौर किया। मेरे सामने दूसरा कोई विकल्प नहीं था। हमारा जो काम करने का तरीका है उससे समझौता नहीं कर सकते। हर आरोप बर्दाश्त किया।
आरोप लगाया कि आरजेडी का प्रशासनिक कार्यों में हस्तक्षेप हद से ज्यादा बढ़ गया था। हमारा गठबंधन किसी इसके लिए नहीं बना था कि कोई सेकुलरिज्म की चादर ओढ़ कर संपत्ति अर्जित करे। एनडीए में शामिल होने के बारे में नीतीश ने कहा कि ‘हमें बीजेपी के शीर्ष नेताओं ने आमंत्रित किया था। जिसके लिए पीएम मोदी ने ट्वीट भी किया था। हालांकि बीजेपी में जाना पहले से तय नहीं था। मेरा कास्ट बेस पर नहीं मास बेस में विश्ववास है।’

एक सवाल के जवाब में कहा कि ‘महागठबंधन फिर से बन सकता है लेकिन उसमें शामिल दलों को कुछ ऐसा करना होगा जिससे की हमारी जवाबदेही बाहर आसानी से तय हो सके।’

2019 के आम चुनाव पर पत्रकारों के सवाल पर मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री मोदी को 2019 के आम चुनाव में हराने वाला कोई नहीं होगा, वह अपारजेय हैं। 2019 में मोदी की ही जीत होगी। इस दौरान हम उनके सहयोगी हो सकते हैं