पहली बार सूर्य के करीब पहुंचने की तैयारी में नासा, आग जैसी गर्मी और रेडिएशन से होगा सामना

वॉशिंगटन: सूर्य के करीब पहुंचने की मानव की पहली तैयारी में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा अपना ‘पार्कर सोलर प्रोब’ जुलाई में लांच करने जा रहा है. ‘पार्कर सोलर प्रोब’ को फ्लोरिडा स्थित नासा के केनेडी स्पेस सेंटर से लांच कांप्लेक्स-37 से भेजा जाएगा. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने एक बयान में कहा कि दो घंटे का लांच विंडो 31 जुलाई को सुबह चार बजे खुलेगा और उसके बाद 19 अगस्त तक हर दिन सुबह चार बजे से थोड़ा पहले खुलेगा.

अंतरिक्ष के लिए रवाना होने के बाद अंतरिक्ष यान सीधा सूर्य के प्रभामंडल यानी कोरोना में पहुंचेगा, जोकि सूर्य के काफी करीब है जहां अब तक कोई मानव निर्मित वस्तु नहीं पहुंच पाई है. सूर्य की सतह से कोरोना की दूरी 38 लाख मील दूर है.

सूर्य की प्रचंड ताप और विकिरण को झेलते हुए इस मिशन से विज्ञान की मौलिक गुत्थियां सुलझाने में मदद मिलेगी कि सौर वात किससे चालित होती है. यहां वात से अभिप्राय सूर्य से निकलने वाले पदार्थ से है जिससे ग्रहीय वातावरण का निर्माण होता है और पृथ्वी के नजदीक अंतरिक्ष के मौसम पर प्रभाव डालता है.

मैरीलैंड स्थित जॉन्स हॉपकिंस अप्लायड फिजिक्स लेबोरेटरी के पार्कर सोलर प्रोब के प्रोजेक्ट मैनेजर एंडी ड्राइजमैन ने कहा, “यह दूसरा सबसे महत्वपूर्ण फ्लाइट पार्कर सोलर प्रोब है. हम फ्लोरिडा में इसे सुरक्षित अंजाम देने को लेकर उत्साहित हैं और अंतरिक्ष यान के लांच से पहले के कार्य में जुटे हुए हैं.”