प्रदेश के किसानो के लिए चिंता बढ़ी, तेजी नहीं पकड़ रही धान खरीदी…

रायपुर: राज्य में पड़े सूखें का असर धान खरीदी पर नजर आ रहा है। करीब महीनेभर से चल रही खरीदी के बावजूद अब तक लक्ष्य का आधा भी धान मंडियों में नहीं पहुंचा है। सरकार ने 70 लाख मीट्रिक टन धान खरीदने का लक्ष्य रखा है, जबकि अभी तक लगभग 18 लाख मीट्रिक टन ही खरीदी हो पाई है। बीते साल अब तक आंकड़ा 30 लाख तक पहुंच गया था। जिससे किसानो की चिंता बढ़ गयी है साथ ही उनके ऊपर उचित मूल्य मिलने का भी दबाव है
इस बार अभी सात ही जिलों में धान खरीदी का आंकड़ा एक लाख या उससे ऊपर पहुंचा है। सरकारी धान खरीदी केंद्रों में इस साल 15 नवंबर से खरीदी शुरू की गई है। अब तक सबसे ज्यादा करीब सवा दो लाख मीट्रिक टन धान महासमुंद जिलों में खरीदी गई है। एक लाख 60 हजार टन बालोद तथा लगभग डेढ़- डेढ़ लाख टन धान खरीदी हो चुकी है। कुछ जगह राहत तो कही आफत बनी हुई है |अगर जिले वर बात करे तो दंतेवाड़ा का हल और भी बुरा है वह निमित मात्रा ही धन मण्डिओ में पहुंचा है |एक लाख 60 हजार टन बालोद तथा लगभग डेढ़- डेढ़ लाख टन धान खरीदी हो चुकी है।इस बार अभी सात ही जिलों में धान खरीदी का आंकड़ा एक लाख या उससे ऊपर पहुंचा है। सरकारी धान खरीदी केंद्रों में इस साल 15 नवंबर से खरीदी शुरू की गई है