प्रद्युम्न हत्याकांड : बालिग-नाबालिग पर आज तय होगा फैसला,मिल सकती है दस साल तक की सजा ..

रायन इंटरनेशनल स्कूल में हुई दूसरी कक्षा के छात्र प्रद्युम्न की हत्या मामले में शुक्रवार को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड में सुनवाई होगी। यहां आरोपी छात्र के बालिग व नाबालिग होने की याचिका पर बहस के बाद बोर्ड फैसला सुनाएगा।|यदि बोर्ड द्वारा आरोपी को बालिग करार दिया तो न केवल उसे जमानत मिलने में दिक्कत हो जाएगी बल्कि आरोप साबित होने पर उसे 10 साल की सजा भी हो सकती है। मतलब साफ शबदो में कहा जाये तो आरोपी छात्र का बचना असंभव है| क्योंकि अगर सोशल इन्वेस्टीगेशन रिपोर्ट में वह बॉलिंग घोषित होता है तो उसके बचने का कोई विकल्प ही नहीं होगा | बहस से पहले इस रिपोर्ट की कॉपी सभी पक्षों को पढ़ने के लिए बोर्ड रूम में उपलब्ध कराई जाएगी। इस रिपोर्ट को पढ़ने के तुरंत बाद ही बहस होगी। बोर्ड रूम छोड़ने से पहले ही इस रिपोर्ट को वापस बोर्ड में जमा करवा लिया जाएगा जिससे अंदर की बात बहार नहीं जा पाएगी |
आरोपी को बोर्ड के समक्ष पेश कर बाल सुधार गृह फरीदाबाद भेज दिया गया। इसके बाद से बोर्ड में प्रद्युम्न के पिता द्वारा आरोपी के खिलाफ याचिका दायर की गई थी कि उसने संगीन अपराध को अंजाम दिया है इसलिए उस पर नाबालिग की तरह मुकदमा न चलाया जाए। एवं उसे बॉलिंग की तरह ही माना जाये |

आज  ही आरोपी की जमानत याचिका पर भी बहस होनी है। सीबीआई द्वारा इस याचिका पर अपना जवाब दाखिल करना है। जिसके बाद इस पर भी बहस होगी।  8 सितंबर को हुए प्रद्युम्न हत्याकांड में सीबीआई ने 11वीं कक्षा के छात्र को हिरासत में लिया था।