फरार आरोपी नवजीत को लेकर ज्यादा दिलचस्पी दिखा रहे पीएचक्यू अफसर

कारोबारियों से 300 करोड़ की ठगी कर फरार दवा कारोबारी नवजीत सिंह टूटेजा मामले में अब पुलिस मुख्यालय के अफसर भी दिलचस्पी लेने लगे हैं। तेलीबांधा और सिविल लाइन में दर्ज धोखाधड़ी के तीन केस की जांच की प्रगति के बारे में थाना प्रभारी व विवेचक से पीएचक्यू के अफसर लगातार अपडेट ले रहे हैं। ये भी पूछ रहे हैं कि टूटेजा का कुछ पता चला क्या? टूटेजा को गिरफ्त में लेने के लिए उसके परिजन, रिश्तेदारों की निगरानी की जा रही है।

बताया जा रहा है कि पीड़ित कारोबारियों ने पीएचक्यू के अफसरों के जरिए अब दबाव बनाना शुरू किया है। उन्हें उम्मीद है कि सीे मुख्यालय के अफसर पूछ-परख करेंगे तो जांच में तेजी आएगी और उनके पैसे वापस मिलने की संभावना भी बढ़ेगी।

काली कमाई का रखता था हिसाब

पुलिस सूत्रों की मानें तो नवजीत टूटेजा ने अधिकांश कारोबारियों के दो नंबर के पैसों को कंपनियों में निवेश करने का झांसा देकर ठगा है। वह नेताओं और अफसरों की काली कमाई का भी हिसाब-किताब रखता था, लिहाजा ठगी का यह मामला हाईप्रोफाइल होने की वजह से मुख्यालय के आला अफसरों ने नवजीत टूटेजा को सर्विलांस पर रखा है।