फोटो खींचकर व्हाट्सएप से भेजाे मीटर की रीडिंग, मिल जाएगा बिल

बिजली कंपनी बिल जनरेट करने और उसके भुगतान के लिए आधुनिक तरीका अपनाने जा रही है। उपभोक्ता को अपना बिल प्राप्त करना है तो उसे खुद के मीटर की फोटो खींचकर कंपनी के नंबर 1912 पर भेजनी होगी।

इसके बाद उसका बिल जनरेट करने की जिम्मेदारी कंपनी की होगी। इस तकनीक से उपभोक्ता अपने बिल से संतुष्ट हो सकेगा, साथ ही उसे अपनी पिछले और अगले महीने की रीडिंग का पता रहेगा। इससे गड़बड़ी होने की आशंका भी कम होगी। अधिकारियों का कहना है कि यह सेवा आने वाले छह महीनों में जमीनी स्तर पर शुरू कर दी जाएगी।

बिजली कंपनी बिल और मीटर रीडिंग में आने वाली गड़बड़ी जैसी समस्याओं से निजात पाने के लिए नित नए प्रयोग कर रही है। इसी कड़ी में कंपनी अधिकारियों को एक और तरीका सूझा है, जिसके माध्यम से उपभोक्ताओं को ज्यादा परेशानी नहीं होगी। उपभोक्ता को व्हाट्सएप पर यह सुविधा भी दी जाएगी कि यदि उसकी फोटो साफ नहीं आती है तो वह अपनी रीडिंग लिखकर ग्रुप पर भेज सकता है, उसी के आधार पर उसे बिल का भुगतान करना होगा। कंपनी अधिकारियों ने इस सुविधा के लिए प्लान तैयार किया है।

उनका कहना है कि इसे जारी करने के लिए पहले लोगों को जागरूक करना जरूरी है। इसमें उपभोक्ताओं को बताया जाएगा कि उन्हें किस तरह और किस दिन फोटो व्हाट्सएप पर अपलोड करना होगी। इसके बाद कंपनी के कर्मचारी उसी रीडिंग के अनुसार बिल जारी करेंगे।

व्हाट्सएप पर ही आ जाएगा बिल

उपभोक्ताओं को समय पर बिल नहीं मिलने से लेकर बिल नहीं भरने और अतिरिक्त भार लगने की शिकायत रहती है। नई सुविधा लागू होने के बाद उपभोक्ता को उसी व्हाट्सएप ग्रुप पर उसका बिल मिल जाएगा, जिससे कि वह समय पर अपना बिल भर सकता है।

कंपनी का बचेगा खर्च

पश्चिम शहर संभाग के कार्यपालन यंत्री मनेंद्र गर्ग का कहना है कि पूरे जिले में कंपनी के लगभग 500 मीटर रीडर हैं, जिसमें प्रत्येक का 7500 रुपए कलेक्टोरेट रेट के हिसाब से भुगतान होता है। इस तरह कुल 37 लाख 50 हजार रुपए का खर्च होता है।

वहीं रीडिंग लेने से बिल बंटने तक कंपनी को प्रति बिल पर पांच रुपए का भुगतान करना होता है। इस तरह कुल 30 लाख रुपए अतिरिक्त खर्च होते हैं। नई तकनीक लागू होने के बाद कंपनी को इन खर्चों से निजात मिलेगी। इस सुविधा के शुरू होने के बाद कंपनी को तो फायदा होगा ही लेकिन उपभोक्ताओं की शिकायतों में कमी आएगी और उन्हें की रीडिंग के हिसाब से बिल दिया जाएगा।

शीघ्र शुरू होगी सुविधा

उपभोक्ता खुद फोटो खींचकर भेजेगा। उसके बाद उसका बिल व्हाट्सएप पर दिया जाएगा, जिससे कंपनी और उपभोक्ताओं को बिल भरने के लिए समय मिल जाएगा। इसके लिए लोगों को ग्रुप पर फोटो भेजने के लिए जागरूक किया जाएगा। इसे शीघ्र चालू करने के लिए तैयारी की जा रही है। – सुब्रतो रॉय, अधीक्षण यंत्री (इंदौर शहर)