बाघिन ने घूरकर देखा तो चौकीदार ने जंगल में गश्त करने से किया इनकार

राजधानी से सटे समरधा के जंगल में बाघिन टी-123 सक्रिय है। जंगल की गश्ती करने गए चौकीदार बस्तीराम का बाघिन से सामना हो गया। बाघिन को देख घबराए चौकीदार के पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई, लेकिन बाघिन ने उसे घूर कर देखा और रास्ता बदलकर आगे चली गई। चौकीदार घटनाक्रम के बाद से डरा हुआ है। उसने जंगल में अकेले गश्ती पर जाने से मना कर दिया है। घटना सोमवार सुबह 7 बजे की है।

चौकीदार के हवाले से वन विभाग के एक अधिकारी ने बताया बस्तीराम रोज की तरह गश्ती कर रहा था। वह सोमवार सुबह 7 बजे कलियासोत रोड पर 13 शटर गेट से 2 किलोमीटर अंदर जंगल में था। इस क्षेत्र में बाघिन टी-123 का मूवमेंट है। वह अचानक चौकीदार के सामने आ गई।

मुझे लगा, अब मैं नहीं बच पाऊंगा

मैं गश्ती कर रहा था। मेरे सामने बाघिन आ गई। यह देख मैं घबरा गया और मेरे हाथ-पांव कांपने लगे। मैं न पीछे हट पा रहा था और न आगे बढ़ सकता था। मुझे लगा आज मेरा आखिरी दिन है, लेकिन कुछ ही समय में बाघिन ने अपना रास्ता बदल लिया और आगे बढ़ने लगी। यह देख मेरी जान में जान आई। – बस्तीराम, चौकीदार समरधा रेंज

चौकीदार ने हिम्मत दिखाई

जब भी किसी व्यक्ति के सामने कोई वन्यप्राणी आता है तो वह उससे डरकर भागने लगता है। यदि चौकीदार भागने लगता तो बाघिन हमला कर सकती थी, लेकिन चौकीदार ने हिम्मत दिखाई। इसी का नतीजा है कि बाघिन ने खुद का रास्ता बदल लिया। -आरके दीक्षित, सेवानिवृत्त वन्यप्राणी विशेषज्ञ