बापू ने कहा था- लक्ष्य तक पहुंचने के लिए जिद तो जरूरी है

युवा पीढ़ी को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जीवन से प्रेरणा लेने की आवश्यकता है। उनका पल-पल पर झूठ बोलना, हिंसा के मार्ग पर चलना और जरा से प्रेशर में हार मान लेना कॉमन हो गया है। आज गांधी जयंती है।

इसलिए युवा पाठकों के लिए एक कोशिश की ‘नईदुनिया लाइव’ ने गांधीजी के विचार, आदर्श और उनके गुणों को प्रकाशित कर। जिन्हें युवा आत्मसात कर न सिर्फ अपना सुनहरा भविष्य गढ़ सकते हैं, बल्कि तमाम मुश्किलों के बावजूद सफलता पा सकते हैं।

गांधीजी के कथन

– पहले वे आपको नजरअंदाज करेंगे, फिर वे आपका मजाक उड़ाएंगे, फिर आपसे लड़ेगें फिर आप जीत जाओगे।

– हमें हमारी इजाजत के बिना कोई ठेस नहीं पहुंचा सकता।

– एक कायर प्रेम का इजहार नहीं कर सकता, यह एक वीर का गुण है।

– हम क्या करते हैं और क्या कर सकते हैं, के बीच का जो अंतर है वही दुनिया की बहुत सी समस्याएं हल कर सकता है।

– मेरा धर्म सत्य और अहिंसा पर आधारित है। सत्य मेरा ईश्वर है और अहिंसा उसे महसूस करने का एक जरिया।

– सत्ता दो तरह की होती है। एक जो भय दिखाकर प्राप्त की जाती है और दूसरी प्रेम दिखाकर।