भारतीय चेस स्टार ईरान में इस टूर्नामेंट में नहीं लेंगी हिस्सा, कारण चौंकाने वाला

पुणे। भारतीय चेस स्टार सौम्या स्वामिनाथन ने ईरान में अगले महीने होने वाले चेस टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं लेने का फैसला लिया है। सौम्या का इस टूर्नामेंट से अलग होने का फैसला इसलिए चौंकाने वाला है क्योंकि उन्होंने हिजाब पहनने की अनिर्वायता के विरोध के चलते यह फैसला लिया है।

ईरान में 26 जुलाई से 4 अगस्त तक एशियाई टीम चेस चैंपियनशिप होनी है और ईरान के नियमों के अनुसार वहां सभी देशों की महिला खिलाड़‍ि यों को हिजाब पहनना अनिवार्य होता है। सौम्या ने फेसबुक पोस्ट कर हिजाब की अनिवार्यता को मानवाधिकार के खिलाफ बनाया और इसे आजादी और धर्म के अधिकार का हनन भी बताया।

उन्होंने लिखा, मुझे जबर्दस्ती हिजाब पहनने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए। ऐसा करना मेरे मानवाधिकार का उल्लंघन है। यह मेरे बोलने, सोचने और धर्म को मानने के अधिकारों का भी उल्लंघन है। मैं अपने अधिकारों की रक्षा के लिए ईरान नहीं जाऊंगी।

इससे पहले 2016 में भारतीय शूटर हीना सिद्धू ने भी इसी वजह से ईरान में एशियन एयरगन टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं लिया था। सौम्या ने कहा कि पहले जब उन्होंने इस टूर्नामेंट में खेलने पर रजामंदी थी तब यह टूर्नामेंट बांग्लादेश में होना था। लेकिन जब नए तारीखों में नए मेजबान की घोषणा की गई तो मैंने खुद को इस टूर्नामेंट से अलग कर लिया। इस मामले में ऑल इंडिया चेस फेडरेशन (एआईसीएफ) को इस मामले में क्या भूमिका निभानी चाहिए, इसका फैसला संघ को ही करना होगा।