भारतीय बुलेट ट्रेन में होंगे स्पेशल टॉयलेट, जानिए और क्या होंगी इसकी खासियतें

भारतीय रेलवे ने एक खास बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की शुरुआत की है, जिसके तहत अब ट्रेनों में महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग- अलग वॉशरूम के साथ वेस्टर्न टॉयलेट सिस्टम होंगे।
रेलवे ने मोदी सरकार की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए 5,000 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत पर जापान से आयात के लिए 25 ई-5 शीन्कसेन सीरीज वाली बुलेट ट्रेन तैयार की जा रही है। यह ट्रेन इसलिए खास मानी जा रही है क्योंकि इसमें महिलाओं के स्तनपान और बीमार यात्रियों के लिए अलग- अलग कमरे होंगे।
रेलवे यात्रियों को अब अलग- अलग टॉयलेट सिस्टम व शौचालय मिलेंगे। यात्रियों को पूरी तरह से नई तरह के टॉयलेट व शौचालय की व्यवस्था मुहैया कराई जाएगी। इसमें वेस्टर्न शौचालय, गर्म पानी की सुविधा और श्रृंगार के लिए ट्रिपल मिरर से लैस पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग वॉशरूम होंगे। इसके अलावा बच्चों के डायपर बदलने और धोने के लिए सिंक की सुविधा मौजूद होगी।
रेलवे यात्रियों को अब अलग- अलग टॉयलेट सिस्टम व शौचालय मिलेंगे। यात्रियों को पूरी तरह से नई तरह के टॉयलेट व शौचालय की व्यवस्था मुहैया कराई जाएगी। इसमें वेस्टर्न शौचालय, गर्म पानी की सुविधा और श्रृंगार के लिए ट्रिपल मिरर से लैस पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग वॉशरूम होंगे। इसके अलावा बच्चों के डायपर बदलने और धोने के लिए सिंक की सुविधा मौजूद होगी।
इस बुलेट ट्रेन को आने वाले दिनों में मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड कॉरिडोर में सेवा के लिए चलाया जाएगा। इसके अलावा इस इस हाई स्पीड ट्रेन बुलेट ट्रेन में 10-कोच में व्हीलचेयर वाले यात्रियों के लिए दो अतिरिक्त-शौचालय होंगे।
इसके संबंध में रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रेलवे ने इस बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के तहत 1 लाख करोड़ रुपये जारी किए हैं। उन्होंने आगे बताया कि इस हाई- स्पीड ट्रेन में पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग कमरों और शौचालयों की सुविधाएं होंगी, जिसमें वेस्टर्न शौचालय व वॉशरूम की सुविधा होगी।