भोपाल : सीएम ने किया प्रचार रथ का पूजन, 14 को अमित शाह दिखाएंगे हरी झंडी

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनी जन आशीर्वाद यात्रा के लिए बनाए गए प्रचार रथ का पूजन किया। भोपाल में पार्टी के मुख्य कार्यालय पर हुए इस आयोजन में सीएम के अलावा उनकी पत्नी साधना सिंह, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, प्रभात झा और अन्य नेता मौजूद थे। गौरतलब है कि सीएम 14 जुलाई से जन आशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं जो प्रदेश के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों से गुजरेगी। इस हाईटेक चुनावी रथ को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 14 जुलाई को उज्जैन में हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। पूजन के बाद रथ को भोपाल से उज्जैन के लिए रवाना किया गया।

230 विधानसभा से गुजरेंगे, 700 से ज्यादा सभाएं लेंगे

आपको बता दें कि सीएम शिवराज जन आशीर्वाद यात्रा के जरिए प्रदेश की जनता तक पहुंचेंगे। ये यात्रा दो चरणों में 55 दिनों तक चलेगी। वे सप्ताह में 4 दिन यात्रा में शामिल होंगे और प्रदेश के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों से गुजरेंगे। इस दौरान बड़ी जगहों पर सीएम की सभाएं भी होंगी और लगभग हर विधानसभा में उनकी रथ सभाएं होंगी। कुल मिलाकर सीएम 700 से ज्यादा सभाएं लेंगे।

इस यात्रा को 14 जुलाई को अमित शाह उज्जैन में हरी झंडी दिखाएंगे। इससे पहले पार्टी के सारे नेता महाकाल के पूजन में शामिल होंगे। सीएम की जन आशीर्वाद यात्रा 2 चरणों में होगी। पहले चरण में विंध्य, महाकोशल और बुंदेलखंड क्षेत्र के विधानसभा क्षेत्रों में यात्रा होगी जबकि दूसरे चरण में भोपाल, नर्मदापुरम, ग्वालियर-चंबल और मालवा-निमाड़ को रखा गया है। यात्रा 25 सितंबर को भोपाल में कार्यकर्ता महाकुंभ के साथ समाप्त होगी।

हाईटेक है चुनावी रथ

ये चुनावी रथ आधुनिक संसाधनों से लैस है। तकनीकी रुप से सुरक्षा के लिहाज से इसमें सारे साजो-सामान लगाए गए है। रात में ज्यादा पॉवर की लाइटें भी इसमें लगी हैं ताकि यदि किसी स्थान पर रात में सभा की स्थिति बनती है तो इन लाइटों का उपयोग किया जा सके। करीब ढाई करोड़ की लागत से 2 हाईटेक गाड़ियां तैयार की गई हैं। इसमें विशेष लिफ्ट भी है जिसमें बैठकर सीएम गाड़ी के ऊपर एक छोटे से मंच पर पहुंचेंगे और लोगों का अभिवादन कर सकेंगे और सभा को भी संबोधित कर सकेंगे। इसके अलावा फ्रीज, टीवी, सोफा और जरुरी सामान रहेगा।

सीएम की सुरक्षा को देखते हुए खास इंतजाम रहेंगे। गाड़ी में हाई रिसोल्यूशन कैमरे भी लगे हैं। जिससे सुरक्षाकर्मी पूरे समय चौकसी बरत सकेंगे।