मध्यप्रदेश सबसे तेज गति से बढ़ता राज्य

राज्यपाल श्री राम नरेश यादव ने गणतंत्र की वर्षगाँठ पर स्थानीय लालपरेड ग्राउंड पर मुख्य समारोह में ध्वजारोहण किया और परेड की सलामी ली। उन्होंने नागरिकों को बधाई और शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश देश में सबसे तेज गति से बढ़ते राज्यों में से एक है। विकास का लाभ अंतिम छोर के अंतिम व्यक्ति तक पहुँचने लगा है।

राज्यपाल ने कहा कि 26 जनवरी 1950 को हमने संविधान को अंगीकार कर गणतंत्र का रूप लिया। इस अवसर पर देश के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का पुण्य स्मरण करते हुए मैं उन्हें प्रणाम करता हूँ।

राज्यपाल ने कहा कि अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग विकास योजनाओं का लाभ लेकर समाज की मुख्य धारा से जुड़ने लगा है। प्रदेश सरकार अनुसूचित जनजाति एवं अनुसूचित जातियों के विकास के लिए कटिबद्ध है। अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति उप-योजना में पिछले 12 वर्ष में 10 गुना से भी अधिक वृद्धि की गयी है।

श्री यादव ने कहा कि मध्यप्रदेश की अर्थ-व्यवस्था प्रमुखत: कृषि पर निर्भर है। लगातार चार वर्ष से कृषि के क्षेत्र में प्रदेश को भारत सरकार से कृषि कर्मण पुरस्कार प्राप्त हो रहा है। मध्यप्रदेश की कृषि विकास दर पिछले चार वर्ष से औसतन 20 प्रतिशत से अधिक रही है जो संभवत: विश्व में सर्वाधिक है। उन्होंने कहा कि सिंचाई सुविधाओं के विकास पर विशेष ध्यान दिया गया है। प्रदेश की पहली नदी जोड़ो योजना नर्मदा-क्षिप्रा लिंक योजना पूरी हो चुकी है।

राज्यपाल श्री यादव ने कहा कि मध्यप्रदेश ऊर्जा के क्षेत्र में एक मॉडल स्टेट बनकर उभरा है। इसका ही नतीजा है कि आज पूरे प्रदेश में घरेलू उपयोग के लिए 24 घंटे और खेती के लिए 10 घंटे बिजली उपलब्ध है। श्री यादव ने कहा कि सड़कों के निर्माण में मध्यप्रदेश के खाते में उल्लेखनीय उपलब्धियाँ दर्ज हुई हैं। प्रदेश में पिछले कई वर्ष से रोजाना करीब 26 किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य चल रहा है।

राज्यपाल ने कहा कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2014 के बाद उद्योगों में 2 लाख करोड़ रूपये का पूँजी निवेश धरातल पर आकर विभिन्न चरण में क्रियान्वयन अधीन है। प्रदेश के हर बच्चे को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मुहैया करवाने के लिए सरकार कटिबद्ध है।

राज्यपाल श्री यादव ने कहा कि महिलाओं के सामाजिक और आर्थिक रूप से सशक्तीकरण की विशिष्ट कोशिशों के चलते विश्व परिदृश्य पर मध्यप्रदेश की सशक्त उपस्थिति दर्ज हुई है। अब तक 21 लाख से अधिक बालिका को लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ मिल चुका है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं में उल्लेखनीय कार्य किया गया है। मातृ मृत्यु दर घटकर 221 हो गई है। शिशु मृत्यु दर भी 54 हो गई है।

राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश में साल 2016 को गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। राज्य सरकार द्वारा सुशासन की दिशा में निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में प्रदेश के बैंकों द्वारा कुल पौने तीन लाख हितग्राही को 1500 करोड़ का ऋण वितरित किया गया है। श्री यादव ने कहा कि लोक सेवा गांरटी योजना लागू करने वाला मध्यप्रदेश पहला राज्य है। 23 विभाग की 161 सेवा को अधिनियम के दायरे में लाया गया है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत अब तक लगभग 50 लाख घर में शौचालय की सुविधा उपलब्ध करवाई जा चुकी है।

राज्यपाल श्री यादव ने कहा कि 22 अप्रैल से 21 मई तक उज्जैन में सिंहस्थ का आयोजन होना है। श्रद्धा और आस्था के इस बहुप्रतीक्षित कालखंड के लिए व्यवस्थाओं को बेहतर और कारगर बनाने के लिये 3200 करोड़ के कार्य स्वीकृत किये गये हैं।

राज्यपाल श्री यादव ने कहा कि मध्यप्रदेश के लिए यह गर्व की बात है कि यहाँ सर्वधर्म समभाव, शांति, एकता और सौहार्द्र की परम्परा हमेशा अक्षुण्ण रही है। हर परिस्थिति में यहाँ के विवेकशील और शांतिप्रिय नागरिकों ने एकता और भाईचारे को हमेशा कायम रखा है।

राज्यपाल श्री यादव ने नागरिकों से और अधिक परिश्रम एवं प्रतिबद्धता के साथ प्रदेश को अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देने का संकल्प लेने का आव्हान किया।

 

Leave a Reply