मध्यप्रदेश : सिंगरौली जिले में भूकंप के हल्के झटके, रिक्टर स्केल पर तीव्रता 4.6

भोपाल/सिंगरौली.मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले में मंगलवार शाम भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 4.6 मापी गई। भूकंप के झटके देर शाम सात बजकर 44 मिनट पर दर्ज किए गए। हालांकि जान-माल के किसी भी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है।

घरों से बाहर निकले लोग

जानकारी के मुताबिक, झटकों के बाद लोग घरों से बाहर सुरक्षित सड़कों पर आ गए। हालांकि कुछ देर के लिए अफरातफरी का माहौल बन गया था। भूकंप का केन्द्र सिंगरौली से 14 किमी दूर दक्षिण-पश्चिम में रहा। भूकंप की गहराई करीब 10 किमी आंकी गई है।

क्यों आता है भूकंप?

पृथ्वी के अंदर 7 प्लेट्स हैं जो लगातार घूम रही हैं। जहां ये प्लेट्स ज्यादा टकराती हैं, वह जोन फॉल्ट लाइन कहलाता है। बार-बार टकराने से प्लेट्स के कोने मुड़ते हैं। जब ज्यादा दबाव बनता है तो प्लेट्स टूटने लगती हैं। नीचे की एनर्जी बाहर आने का रास्ता खोजती है। डिस्टर्बेंस के बाद भूकंप आता है।

कितनी तबाही ला सकता है भूकंप?
रिक्टर स्केल असर
0 से 1.9 सिर्फ सीज्मोग्राफ से ही पता चलता है।
2 से 2.9 हल्का कंपन।
3 से 3.9 कोई ट्रक आपके नजदीक से गुजर जाए, ऐसा असर।
4 से 4.9 खिड़कियां टूट सकती हैं। दीवारों पर टंगी फ्रेम गिर सकती हैं।
5 से 5.9 फर्नीचर जैसा भारी सामान तक हिल सकता है।
6 से 6.9 इमारतों की नींव दरक सकती है। ऊपरी मंजिलों को नुकसान हो सकता है।
7 से 7.9 इमारतें गिर जाती हैं। जमीन के अंदर पाइप फट जाते हैं।
8 से 8.9 इमारतों सहित बड़े पुल भी गिर जाते हैं।
9 9 और उससे ज्यादा पूरी तबाही। कोई मैदान में खड़ा हो तो उसे धरती लहराते हुए दिखेगी। समंदर नजदीक हो तो सुनामी
– भूकंप में रिक्टर पैमाने का हर स्केल पिछले स्केल के मुकाबले 10 गुना ज्यादा ताकतवर होता है।